भारत का सर्वश्रेष्ठ बियर ब्रांड

Last Updated on 3rd November, 2022  • Abhinav Vasudevan   • 1 Minute Read

पूरी तरह से एक खुशहाल व्यक्ति का मुँह बियर से भरा रहता है। - यह मिस्र की एक कहावत है।

तब यदि आप भी अपने जीवन में खुशियाँ चाहते हैं तब आपको बियर जरूर पीनी चाहिए। जब जीवन में मुश्किलें या परेशानियाँ आएं, तब उन मुश्किलों से ना तो घबराएं और ना ही उन परेशानियों को अपने जीवन पर हावी होने दें, बल्कि बाहर जाएँ और बियर पीएँ। आप बहुत ही अच्छा महसूस करेंगे।

बियर अपने बहुत कम एबीवी लेवल जिसका मतलब होता है 'अल्कोहल बाय वॉल्यूम' के कारण एक लाइट अल्कोहलिक ड्रिंक (मादक पेय) माना जाता है, । लेकिन इन आँकड़ों से उल्लू बनने की जरूरत नहीं है, क्योंकि दुनियाभर की अधिकांश आबादी को इसकी परवाह नहीं है। बियर पूरी दुनियाभर में एक बहुत ही ज्यादा पसंद किया जाने वाला ड्रिंक है, इतना अधिक कि यह पानी और चाय के ठीक बाद सबसे अधिक खपत होने वाले तरल पदार्थों की सूची में तीसरे स्थान पर है। इसी कारण से खुद ब खुद, यह एक ऐसा उद्योग बन गया है जो अरबों लोगों की आवश्यकताओं की पूर्ति करता है।

यह काफी नेचुरल भी लगता है। बियर को पहली बार सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक, भगवान की भूमि, इज़राइल में पेश किया गया था। तब से, इसकी माँगें केवल ऊँची और ऊँची होती गईं। बियर शब्द "बोर" शब्द से आया है, जो पुरानी अंग्रेजी और सामान्य जर्मनिक भाषा से उत्पन्न हुआ है। एक ठंडी बियर चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने का अच्छा उपाय है।

यह मूल रूप से शहद और फलों वाला एक मीठा ड्रिंक ही है। इसलिए, बियर की ताकत को कभी नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए। यह मिस्र के पिरामिडों जितना पुराना है। यह समय की मांग के अनुसार सभी कसौटियों पर खरा उतरा है और अब तक लोगों को अपने प्यार में डाल रहा है। आप इसे टाइमलेस ब्यूटी की तरह कह सकते हैं यानि यह इतना पसंदीदा है कि इसके प्रति लोगों का प्यार कभी खत्म नहीं हो सकता हैं।

चाय और कॉफी के अलावा, एक बियर ही अकेला पूरी दुनिया में सबसे पसंदीदा ड्रिंक है, और यह सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला अल्कोहलिक बेवरेज (पेय) भी है। कई दूसरे ड्रिंक्स मिलकर भी उतनी बिक्री या खपत नहीं कर सकते हैं जितनी बियर अकेला करता है। भारत में, हम अपने रम और व्हिस्की से बहुत प्यार करते हैं। हम में से कई लोगों ने वाइन के स्वाद का भी मजा ले लिया है। लेकिन जब बात लोकप्रियता की आती है तब उस मामले में आप बियर को मात नहीं दे सकते। इस तथ्य के पीछे कई कारण हैं। सबसे आम कारण मुख्य रूप से बजट है। अन्य ड्रिंक्स जैसे व्हिस्की, वाइन और जिन काफी महँगे होते हैं। उनकी तुलना में बियर काफी ज्यादा किफायती होता है है। इसके अलावा, इसके कई वैरायटी भी होते हैं जो कि इसका एक और प्लस पॉइंट है। बियर को कई अलग-अलग तकनीकों से बनाया जाता है, और कैटलॉग में और भी वैरायटी जोड़ने के लिए कई तरह के इन्फ्यूजन भी तैयार किए गए हैं। इस तरह से, आपके पास हमेशा ढेरों विकल्प होते हैं। और विकल्प जीवन में महत्वपूर्ण हैं, बियर के मामले में तो और भी अधिक।

भारत में बियर की खपत एक परंपरागत रूप में चली आ रही है है और इस प्यारे ड्रिंक की तहे दिल से प्रशंसा भी करते हैं, बियर का हमारा इतिहास विशेष रूप से समृद्ध है और अब हमारे अपने स्वदेशी बियर ब्रांडों कि जो की स्वाद में भरपूर हैं, का उत्पादन भी होता है। हालाँकि बियर के मामले में भारतीय अर्थव्यवस्था में कुछ विश्व-प्रसिद्ध कंपनियों का वर्चस्व अब तक बना हुआ है, लेकिन कुछ उच्च श्रेणी के भारतीय ब्रांड भी हैं जो पिछले कुछ वर्षों में उभरे हैं और जिन्होंने बड़े बड़े महान ब्रांडों के बीच में अपना सही मुकाम हासिल कर लिया हैं।

इसकी कहानी बहुत समय पहले शुरू हुई थी, लगभग 13000 साल पहले (8500-5500 ईसा पूर्व), नवपाषाण युग में। पुरातत्वविदों ने इज़राइल के हाइफ़ा के कार्मेल पर्वत में स्थित राकेफ़ेट गुफा में किण्वन अवशेषों (फर्मेंटेशन रेसिडयू) की खोज की थी। यहाँ तक ​​कि सबसे पहले जौ से बनी बियर के प्रमाण भी पश्चिमी ईरान में 3500-3100 ईसा पूर्व के हैं।

तब से, मानवता ने कई उत्थान और पतन देखे हैं, कई राज्यों के फलते-फूलते हैं और ध्वस्त होते देखा हैं, और कई नई तकनीकी चमत्कारों को होते हुए देखा है। लेकिन कुछ चीजें हैं जो कि कभी नहीं बदलती। ऐसा लगता है कि बियर के प्रति लगाव या प्यार कुछ खास इसी तरह का है। बियर को दुनिया भर में सबसे पहले जर्मन और सेल्ट्स द्वारा फैलाया गया था। और आज बियर प्रेमी दुनिया के कोने-कोने में मिल जाते हैं।

व्हिस्की या कुछ डीलक्स वाइन के विपरीत, शुरु से ही बियर की कोई स्टैंडर्ड कंपोजिशन नहीं है। हर देश, हर संस्कृति ने इसे बनाने में अपने-अपने स्वाद, अपने-अपने तरीके दिए हैं। प्रत्येक बियर में केवल एक चीज आम है और वह यह कि वे सभी जौ या मक्का से बने होते हैं। उनमें आम तौर पर अल्कोहल कंटेंट कम होते हैं। हल्के वाले में 4 से 5% का 'अल्कोहल बाय वॉल्यूम' (ABV) होता है, मध्यम वाले में 5 से 7% होता है, और यहाँ तक ​​कि स्ट्रॉन्ग बियर में भी केवल 7-8% अल्कोहल होता है।

चूंकि बयर सबसे हल्के अल्कोहलिक ड्रिंक्स में से एक है, इसलिए इनका सेवन बिना पानी या सोडा के किया जाता है। लेकिन, कुछ ऐसे कॉकटेल हैं जैसे क्लासिक शैंडी, ब्लैक वेलवेट, चेलाडा, बियर मार्गरीटा आदि जिन्हें आप अपनी पार्टियों में या पब/बार में बिल्कुल ट्राई कर सकते हैं। बियर किसी के साथ भेदभाव नहीं करती है, इसलिए बियर पीने का कोई भी 'प्योर' या 'प्रामाणिक' तरीका नहीं है। बस आपको अपने फ्लो के साथ जाना है, और जैसा आप इसे पीना पसंद करते हैं वैसा ही बनाना है। जो शराब नहीं पीते हैं, उन लोगों के लिए भी एक विकल्प है। यदि वास्तव में आपको इसे पीने की ललक हैं या अपने दोस्तों के साथ इसका आनंद लेना चाहते हैं, तब पूरी तरह से अलग एक नॉन-अल्कोहल बियर भी उपलब्ध हैं जो कि समान स्वाद प्रदान करता है।

हालांकि बियर एक बहुत ही साधारण ड्रिंक है, लेकिन हर किसी का अपना अपना टेस्ट होता है। और जैसा कि बियर में स्वाद और अल्कोहल प्रतिशत के आधार पर बहुत अधिक वैरायटी होती है, इस कारण यह बहुत ज्यादा कंफ्यूजन पैदा करता है। लेकिन डरने की बात नहीं है, यहाँ भारत में सबसे अच्छे बियर ब्रांड उपलब्ध हैं, और उनमें सभी के लिए कुछ न कुछ है।

 

बेस्ट ऑफ़ द बेस्ट बियर

कार्ल्सबर्ग

कार्ल्सबर्ग एक सबसे प्रतिष्ठित और प्रसिद्ध बियर ब्रांडों में से एक है। वे खुद को ‘दुनिया का शायद सबसे अच्छा बियर' के रूप में विज्ञापित करते हैं, और लाखों बियर-प्रेमियों के लिए, यह सच्चाई से दूर भी नहीं हैं।

उनके उत्पादन का लगभग 200 वर्षों का लंबा और प्रतिष्ठित इतिहास है। कंपनी की स्थापना 1847 में डेनमार्क के कोपेनहेगन में एक आर्ट कलेक्टर, जे.सी. जैकबसेन ने किया था। उनका पहला निर्यात 1868 में स्कॉटलैंड भेजा गया था, और बाकी जैसा वे कहते हैं, इतिहास है। वे मानकों के निर्माण में और प्रयोगों दोनों में उद्योग के लिए एक मार्गदर्शक का काम करते हैं।

कार्ल्सबर्ग भारतीय बियर बाजार में भी अग्रणी है। उन्होंने पुराने जमाने के ग्राहकों को अपने क्लासिक वेरिएंट के साथ बनाए रखा है, लेकिन वे आजकल के बियर-प्रेमी लोगों के लिए नए नए टेस्ट भी लेकर आए हैं। कार्ल्सबर्ग ग्रुप दुनिया भर में एक और बेहद लोकप्रिय बियर, टुबोर्ग की मूल पेरेंट कंपनी भी है। वे स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बियर के पांच सौ से अधिक वैरायटी का उत्पादन करते हैं।

यह हल्के पीले रंग का होता है, और हॉप्स से आने वाली हल्की कड़वाहट छोड़ता है। और उच्च गुणवत्ता वाले यूरोपीय जौ एक बहुत ही रिच, और स्मूद स्वाद प्रदान करता है। भारत में कार्ल्सबर्ग की प्रमुख बियर, एलीफेंट स्ट्रॉन्ग बहुत लंबे समय से ही इस देश में बिकने वाले सबसे अच्छे स्ट्रॉन्ग बियरों में से एक रही है। 'एलीफेंट स्ट्रॉन्ग सुपर प्रीमियम' में कार्ल्सबर्ग का ट्रेडमार्क स्वीट और माल्टी फ्लेवर होता है, लेकिन यह अधिक वाइब्रेंट और विशिष्टता के साथ आता है। किसी भी समारोहों और त्योहारों के लिए लोगों का पसंदीदा इस ड्रिंक का गहरा रंग और कड़वापन ने भारतीय बियर प्रेमियों को काफी लंबे समय से मंत्रमुग्ध कर रखा है।

कार्ल्सबर्ग एलीफेंट स्ट्रांग सुपर प्रीमियम में 7% एबीवी, कार्ल्सबर्ग माल्ट प्रीमियम में 5% और कार्ल्सबर्ग क्लासिक में भी 7% एबीवी है। ये तीनों नियमित रूप से भारत में सेल्स चार्ट में सबसे ऊपर होते हैं। उनका स्मूद फ्लेवर स्टेक, पिज्ज़ा, चिकन टिक्का के साथ अच्छा लगता है।

बडवाइज़र

बडवाइज़र ने अधिकांश भारतीय बियर प्रेमी लोगों की गुडबुक में एक स्थायी स्थान प्राप्त कर लिया है। यह दुनिया भर में और संयुक्त राज्य अमेरिका में जहाँ से ये आते हैं, सबसे बड़े और सबसे प्रसिद्ध बियर ब्रांडों में से एक हैं। वे भारत के साथ-साथ अमेरिका के पबो और बारों में काफी माँग में रहते हैं।

उनका सिग्नेचर फ्लेवर, मध्यम उबला हुआ, संतुलित रूप से मीठा स्वाद पूरी तरह से अमेरिकी है। आप इस फ्लेवर प्रोफाइल को इसके ऑल टाइम क्लासिक बडवाइज़र प्रीमियम (5% एबीवी) के पुराने संस्करण में प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपका ड्रिंक अधिक हार्ड हो, तब बडवाइज़र मैग्नम (6.5% एबीवी) को ट्राई कर सकते हैं। उन्हें अक्सर बियर की आकर्षक दुनिया में पहला कदम रखने वाले के रूप में माना जाता है, खासकर भारत में जहाँ यह उन लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय है जो बियर का मज़ा चखने का अपना रोमांचक शुरूआत करना चाहते हैं।

1876 ​​में, एडॉल्फस बुश, एक जर्मन मूल के अमेरिकी और उनके दोस्त कार्ल कॉनराड ने सेंट लुइस, मिसौरी में अनहेसर-बुश नामक एक लेगर खोला और इस तरह से 'द किंग ऑफ बियर्स' का जन्म हुआ। कुछ ही समय में, उन्होंने पूरे बाजार में आग लगा दी, और तब से उनकी ख्याति बढ़ती चली गई।

बडवाइज़र में एक विशिष्ट कुरकुरे और अत्यधिक सुगंधित टेक्सचर है। मीठे चावल जैसा उनका स्वाद उन्हें नए- नए बियर पीने वाले लोगों के लिए एक पसंदीदा विकल्प बनाता है। और भारत जैसे देश में जहाँ की जलवायु मुख्य रूप से गर्म है, यह फ्लेवर और भी अधिक जरूरी हो जाता है। यह दुनिया के सबसे अच्छे फ़िल्टर्ड बियर में से एक है। एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि बडवाइज़र चेक लेगर या कई यूरोपीय बियर के विपरीत, 30% तक चावल से बनाया जाता है और साथ में हॉप्स और जौ माल्ट को सही माप के लिए जोड़ा जाता है। यह पिज्ज़ा, हल्के नमकीन स्नैक्स या स्लाइडर के साथ बहुत अच्छी तरह से जाता है।

किंगफिशर

किंगफिशर भारतीय मूल का सबसे प्रतिष्ठित बियर ब्रांड है। इसका स्वामित्व यूनाइटेड ब्रुअरीज ग्रुप ऑफ बैंगलोर के पास है। किंगफिशर पिछले कुछ दशकों से भारतीय बियर बाजार में एक सर्वव्यापी इकाई रही है। वे अपने बहुत सारे फ्लेवर और कीमत के कारण 'भारतीय बियर' के समानार्थक बन गए हैं। ज्यादातर औसतन उपभोक्ताओं के लिए किंगफिशर पार्टियों, मुलाकातों आदि के लिए पहली पसंद रहती है।

किंगफिशर सबसे अधिक बिकने वाली देसी बियर है, जो कई सालों से बाजार में छाई हुई है, और इसने वैसे युवा लोगों का एक लॉयल फैनबेस भी जमा किया हुआ है, जिन्हें बियर के प्रति असीम लगाव है। उनके पास किंगफिशर लेगर और प्रीमियम जैसे लाइट बियर से लेकर किंगफिशर सुपर और एक्सट्रीम मैक्स जैसे कुछ हार्ड वाले तक के 10 से अधिक प्रकार की वैरायटी हैं। वे किंगफिशर स्ट्रांग (8% एबीवी) पूरे देश में सबसे ज्यादा बिकने वाली बियर का भी उत्पादन करते हैं। उनके अर्सेनल में किंगफिशर ब्लू (8% एबीवी), प्रीमियम (4.8% एबीवी) और अल्ट्रा (5% एबीवी) भी मौजूद हैं।

उनके सिग्नेचर फ्लेवर माल्टी और साइट्रस फ्लेवरों के सही मिश्रण में निहित हैं, जो एक दूसरे के पूरक और विपरीत हैं। इनके प्रीमियम वैरिएंट अपेक्षाकृत कम कीमत में भी अपनी उच्च गुणवत्ता के लिए बेहद लोकप्रिय है। उनके फ्लेवर प्रोफ़ाइल में माल्टी का एक मधुर मिठास होता है। शायद इसीलिए किंगफिशर भारतीय बियर प्रेमियों के बीच इतने सारे बियरों में सबसे आगे रहा है।

किंगफिशर ने पहली बार 1857 में अपना व्यापार शुरू किया था, और फिर बाद में 1978 में जिसे फिर से शुरू किया गया था। यूबी ग्रुप के मालिक और किंगफिशर की होल्डिंग कंपनी के पास अब सबसे बड़े शेयरधारक के रूप में हेनेकेन भी है। बियर में उनकी विशेषज्ञता को शायद ही किसी मान्यता की आवश्यकता हो। ऐसे में किंगफिशर का भविष्य उज्जवल नजर आ रहा है। 1.3 अरब लोगों वाले देश में इसकी 36% की विशाल बाजार हिस्सेदारी भी है, जो कि एक असाधारण उपलब्धि है।

इसका हल्का मीठा और माल्टी फ्लेवर भारतीय व्यंजनों के फ्लेवर और टेक्सचर के अविश्वसनीय समावेश के साथ वास्तव में अच्छी तरह से चला जाता है। आप इसके साथ कबाब, बारबेक्यू और यहाँ तक ​​कि चॉकलेट भी ट्राई कर सकते हैं। और आप इसे नमकीन मूंगफली के साथ ट्राई जरूर करें, तब इसका स्वाद कुछ और ही होता है।

हेनेकेन

हेनेकेन एक और विश्व प्रसिद्ध बियर ब्रांड है जो भारत में समान रूप से लोकप्रिय है। इसे नीदरलैंड की एक शराब बनाने वाली कंपनी हेनेकेन एन.वी. द्वारा बनाया गया है।

यदि आप कभी किसी बार या एफ एल शॉप पर गए होगें, तब आपने निश्चित रूप से लाल तारे के साथ हेनकेन की ऐतिहासिक हरी बोतल को जरूर देखा होगा।

भारत में हेनेकेन का बहुत बड़ा फैनबेस है, और इसके पीछे कुछ कारण हैं। सबसे पहला, जब विदेशी शराब की बात आती है, यह विदेशी होते हुए भी काफी सस्ती है। फिर दूसरा स्वाद आता है। इसका स्ट्रांग लेकिन स्मूद फ्लेवर (5% एबीवी), इसकी झागदार प्रकृति और पूरी तरह से संतुलित सुगंध (अरोमा) ने लाखों भारतीय बियर प्रेमियों का दिल जीत लिया है। भारत में हेनेकेन को जितना अटेंशन मिला है उसका एक अंश भी अन्य कईयों अंतरराष्ट्रीय लेगर बियर को नहीं मिला है। और उन्हें दोष नहीं दिया जा सकता है। यह बिल्कुल कार्बोनेटेड है, और यदि आप मिश्रण में कुछ बर्फ मिलाते हैं, तब इसका स्मूद क्रीमी टेक्सचर और भी बेहतर हो जाता है।

1864 में एम्स्टर्डम में अपने संस्थापक जेरार्ड एड्रियान हेनेकेन द्वारा 'द हेस्टैक' शराब की भठ्ठी खरीदने के बाद हेनकेन ने अपना बिजनेस शुरू किया। उन्होंने यीस्ट विकसित करने के लिए डॉ. एलियन को काम पर रखा और 1873 में हेनेकेन पहली बार बाजार में आया। और तब से उनकी प्रगति बहुत ऊँची रही है। 140 से अधिक वर्षों से उनकी क्वालिटी मैनेजमेंट के कारण उनकी विशेषज्ञता आज इस महान स्थिति तक पहुंच गई है।

उन्होंने कुछ प्रतिष्ठित पुरस्कार भी जीते हैं जिनमें अंतर्राष्ट्रीय मेरीटाइम प्रदर्शनी में स्वर्ण पदक और एक्सपोज़िशन यूनिवर्सेल में भव्य पुरस्कार शामिल हैं।

उनका फ्लेवर प्रोफाइल इतना अच्छा है कि इसमें शायद ही किसी तरह की छेड़छाड़ की जरूरत पड़ी हो। यह अभी भी केवल तीन सामग्रियों- जौ, हॉप्स और डिस्टिल्ड वॉटर से बना होता है। यह कोई भी सामान्य पीली लेगर बियर हो सकती थी, लेकिन यह कुछ भी हो इसके आकर्षक रंग, और मीठे स्वाद ने उन्हें 190 से अधिक देशों में बेची जाने वाली दुनिया के सर्वश्रेष्ठ माल्ट बियर में से एक बना दिया है।

लेकिन इसमें न केवल उच्च श्रेणी की सामग्री है जिसके कारण उन्हें अपनी पहचान मिली है। बल्कि ए-यीस्ट, यीस्ट का उनका अपना वैरिएंट का यह प्रक्रिया है, जो इसे वह सब जैज़ देता है, और एक सदी से भी अधिक समय से अपने यूनिक फ्लेवर को लगभग समान रखने में दृढ़ संकल्प है।

और भारतीयों के लिए, हेनेकेन का फ्लेवर किसी भी प्रकार के हल्के भोजन, यहाँ तक ​​कि सलाद (हालांकि यह अविश्वसनीय लग सकता है) के लिए एक आदर्श साथी है।

टुबोर्ग

टुबोर्ग बियर का निर्माण भारत में उनके वर्तमान मालिक, कार्ल्सबर्ग समूह द्वारा किया जाता है; लेकिन मूल शराब की भठ्ठी डेनमार्क में स्थित है। इसे लक्ज़री माल्ट बियर के रूप में भारी लोकप्रियता मिली है। टुब्रोग के सिग्नेचर फ्लेवर में फूलों और भुने हुए अनाज के हिंट मिलते हैं।

टुबोर्ग ब्रेवरी की स्थापना एक उद्योगपति फिलिप हेमैन ने गुस्ताव ब्रॉक, रूडोल्फ पुगार्ड और सी.एफ. टिएटजेन के साथ मिलकर 1873 में की थी। 'टुब्रोग' नाम के पीछे एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है। टुबोर्ग 'थ्यूज़बोर्ग' से आया है जिसका अर्थ है 'थ्यू का महल'। यह ब्रेवरी (शराब की भठ्ठी) जिस जगह पर थी वहाँ 1690 के दशक में एक बहुत लोकप्रिय सराय हुआ करती थी, जिसके मालिक जोनास थ्यू थे। लोगों ने इसे 'थ्यूज़ कैसल' नाम दिया। इस कारण से, टुबोर्ग नाम उस जगह के लिए एक श्रद्धांजलि है जो समय के साथ खो गया था, लेकिन फिर भी हम जो बियर पीते हैं उसके हर घूंट में हमारे बीच रहता है।

यह एक हल्की लेगर बियर है जो बॉटम फर्मेंटेड होती है। माल्ट ब्रूइंग इसे ताज़ा बनाता है, और फूलों की सुगंध को खूबसूरती से पकड़ लेता है। बाद का स्वाद भी हल्का कड़वा होता है। इसलिए वे बिक्री के मामले में भारत में नंबर 1 विदेशी ब्रांड हैं।

टुबोर्ग के कई प्रकार के होते हैं। 1875 में उन्होंने अपनी पहली बियर, टुबोर्ग रेड बनाई थी, जिसे आजकल नियमित रूप से नहीं बनाया जाता है। बल्कि कंपनी का जन्मदिन मनाने के लिए हर साल मई के महीने में एक बार इसका उत्पादन किया जाता है। उनका प्रमुख टुबोर्ग पिल्सनर 1880 से बेस्टसेलर रहा है, जब से यह पहली बार बाजार में आया था। टुबोर्ग ग्रीन (4.8% एबीवी) हल्का और स्मूद होता है, जिसमें एक नाजुक रूप से तैयार अरोमा होती है जो फूलों और अनाज के बीच की होती है। इस मीडियम-रीच बियर का स्वाद हल्का मीठा होता है, और यह भारत में भी काफी सस्ती आती है। टुबोर्ग स्ट्रांग प्रीमियम (8% एबीवी) उन लोगों के लिए सबसे अच्छा विकल्प है जो अपने ड्रिंक में कुछ अतिरिक्त पॉवर पसंद करते हैं।

और जैसा कि वे 31 से अधिक देशों में अपने बियरों को बेचते हैं, उनकी कैटलॉग बहुत बड़ी है। कुछ अन्य किस्में टुबोर्ग क्रिसमस, टुबोर्ग ट्विस्ट, टुबोर्ग गोल्ड, टुबोर्ग ब्लैक, टुबोर्ग फाइन फेस्टिवल, टुबॉर्ग लेमन आदि शामिल हैं।

टुबोर्ग उन लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है जिनकी प्राथमिकता स्मूद इंटेंस बियर की होती है। यह मध्यम नोट के रूप में हल्की मिठास के साथ एक लेगर बियर है, और यह काफी क्रिस्पी और हेल्थी भी है। यह किसी भी हल्के भोजन और किसी भी प्रकार के मसालेदार भोजन के साथ भी बहुत अच्छा लगता है, जो पूरे भारत में प्रचुर मात्रा में मिलता है।

फोस्टर्स

फोस्टर्स लेगर दुनिया भर में सबसे प्रसिद्ध बियर ब्रांडों में से एक है। और यद्यपि यह अक्सर अपनी मातृभूमि ऑस्ट्रेलिया में अपने कुछ प्रतिस्पर्धियों के खिलाफ दौड़ में हार जाता है, फिर भी यह दुनिया के बाकी हिस्सों में सबसे ज्यादा बिकने वाली ऑस्ट्रेलियाई बियर है। ऑस्ट्रेलिया का नुकसान इस मामले में भारत का फायदा है, क्योंकि फोस्टर ने यहाँ भारत में बाजार के काफी हिस्से पर कब्जा कर लिया है।

यह मौजूद सभी लेगर बियर के बीच सबसे अच्छी पैकेजिंग में से एक है, और वास्तव में इसके उन्नत टेस्ट पैलेट का पूरक है। यह रंग में बहुत हल्का है, लेकिन इसके फुल-ग्रेन टेस्ट, रमणीय हॉप अरोमा के साथ एक पंच पैक देता है, और हर बोतल में स्मूदनेस और कड़वाहट का लगभग सही अनुपात बनाए रखता है। फोस्टर्स का प्रीमियम स्ट्रांग उन लोगों के लिए एक और बढ़िया विकल्प है जो डार्क फ्लेवर और अधिक इंटेंस बियर पसंद करते हैं।

इसमें मौजूद हर सामग्री की बहुत अच्छी क्वालिटी होती है। इस लेगर के लिए उपयोग किए जाने वाले रिंगवुड हॉप्स के सुपर प्राइड को केवल दो ऑस्ट्रेलियाई खेतों से प्राप्त किया जाता है। टिम फोस्टर का खमीर या यीस्ट जो आज भी उपयोग किया जाता है उसका उपयोग 1923 से किया जा रहा है। उनके अधिकांश उत्पाद भारत, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में 4% एबीवी  और संयुक्त राज्य अमेरिका में 5% एबीवी में बनाए रखते हैं। इसकी कुछ अन्य विविधताएँ भी हैं, जैसे- फोस्टर के सुपर चिल्ड को बार और पब में ठंडा सर्व किया जाता है, एक यूके में विजेट स्कूबा के साथ, और फोस्टर गोल्ड (4.5%)।

फोस्टर्स दो अमेरिकी भाई-बहनों, विलियम और राल्फ फोस्टर द्वारा बनाया गया था, जो 1886 में ऑस्ट्रेलिया आए थे। उन्होंने 1888 में बियर बनाना शुरू किया और 1889 में, उन्होंने इसे बेचना शुरू किया। और इस तरह एक लंबी और सफल यात्रा शुरू हुई। स्वामित्व में काफी कुछ बदलाव देखे गए हैं, लेकिन स्टैंडर्ड वही बना हुआ है।

1907 में, यह कार्लटन एंड यूनाइटेड ब्रेवरीज का हिस्सा बन गया। 2011 में, एसएबी मिलर ने इसे खरीदा था। फिर 2016 में इसे एबी इनबेव में शामिल किया गया। और अंत में 2020 में, वर्तमान मालिक असाही ब्रुअरीज ने इसे खरीद लिया।

फॉस्टर्स का स्वाद क्रिस्प्स, बर्गर और चॉकलेट के साथ खाने के लिए एकदम सही है। और भारतीय भी उन सभी से प्यार करते हैं।

कोरोना

खैर, यह बेहद लोकप्रिय बियर ब्रांड अपने नाम के अलावा दुनिया भर में चल रही महामारी के साथ कुछ भी साझा नहीं करता है। यह एक दुर्भाग्यपूर्ण संयोग है, कम से कम यह कह सकते है। लेकिन यह इस तथ्य को भी दूर नहीं करता है कि कोरोना न केवल भारत में बल्कि पूरी दुनिया में सबसे अधिक बिकने वाले बियर ब्रांडों में से एक है।

उनकी सबसे प्रसिद्ध वेरिएशन, कोरोना एक्स्ट्रा (4.5% एबीवी) एक पीला लेगर है जो 1998 के बाद से संयुक्त राज्य अमेरिका में लगातार सबसे अधिक बिकने वाला इम्पोर्टेड बेवरेज रहा है।

यह ज्यादातर स्मूद तरह का है, लेकिन साथ ही एक असामान्य ड्राईनेस भी प्रदान करता है। इसके मीठेपन, में जौ माल्ट, हॉप्स और मकई का एक बड़ा मिश्रण होता है; और जो कि गले से उड़ जाता है।

कोरोना बियर के बारे में एक और दिलचस्प बात यह है कि वे अक्सर कुछ ज़िंग और तीखापन जोड़ने के लिए लाइम या नींबू के वैज के साथ लिए जाते हैं। इसका उपयोग 'कोरोनारिटा' नामक कॉकटेल में भी किया जाता है, जिसमें एक मार्जरीटा में कोरोना की एक बोतल डाली गई होती है।

गर्मियों की चिलचिलाती गर्मी से आपकी आत्मा को शांति देने वाली यह एक फ्रेस टेस्ट वाली बियर के रूप में बेहद लोकप्रिय है। और चूंकि भारत जो कि एक प्रमुख रूप से गर्म देश है, इसलिए यहाँ कई लोग इसे पसंद करते हैं।

1922 में स्थापित मैक्सिकन शराब की भठ्ठी 'ग्रुपो मॉडलो' द्वारा कोरोना बियर का उत्पादन किया जाता है। लेकिन इसका मालिक बेल्जियम की कंपनी एबी इनबेव है।

हैरानी की बात यह है कि कोरोनावायरस के साथ इलॉजिकल जुड़ाव ने उनके व्यवसाय को बहुत अधिक नुकसान नहीं पहुँचाया है। हालांकि चीन में उनकी बिक्री में थोड़ी गिरावट आई है, लेकिन अमेरिका उनका गढ़ बना रहा है। कोरोना बियर को नियमित रूप से पीने वालों में से केवल 4% ने कहा कि वे कोरोना बियर पीना बंद करने की सोच रहे हैं।

आप इस बियर के साथ कुछ चिकन लॉलीपॉप, बर्गर या किसी भी प्रकार के मसालेदार भारतीय भोजन का आनंद ले सकते हैं।

हेवर्ड्स 5000

हेवर्ड्स 5000 बियर भारत में अपने हार्ड लेकिन हल्के मीठे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। इसमें 7% एबीवी है, जिसने इसे भारत की स्ट्रांग बियर का पर्याय बना दिया है। वे हेवर्ड्स 2000 नाम का एक जेंटलर वेरिएशन भी बनाते थे, जिसे बंद कर दिया गया है।

दूसरी ओर, उनके पास एक अल्ट्रा-स्ट्रांग संस्करण भी है, जिसका नाम हेवर्ड्स 10000 है, जिसके अपने आला ऑडियंस हैं। हेवर्ड्स ने लगभग 11% की राजस्व हिस्सेदारी बनाए रखी है, और यह एकमात्र भारतीय बियर है जो '1001' बियर में सूचीबद्ध है। भारत के कुछ राज्यों जैसे हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में इसका बहुत बड़ा क्रेज है।

यह शॉ वालेस एंड कंपनी (एसडब्ल्यूसी) द्वारा निर्मित है, जिसका मुख्यालय कोलकत्ता, भारत में है। लेकिन इसका बहुत बड़ा श्रेय सर एंथनी डब्ल्यू.बी. हेवर्ड, एक ब्रिटिश एग्जीक्यूटिव, जो शॉ वालेस में शामिल हुए और इस बियर को लॉन्च किया। उनके पोते-पोतियों के पास अभी भी दक्षिण गोवा में एक अच्छा बार है जहाँ आप यदि बियर पीने के मौजूदा रिकॉर्ड को तोड़ते हैं, तब आप वहाँ अपने सभी बियर मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं,

यह एक पतली, क्लियर, सफेद सिर वाली, पीले-सुनहरे रंग की बियर है जिसमें सफेद सेडीमेंट के धब्बे उपलब्ध होते हैं। अरोमा और स्वाद सामग्री के मिश्रण पर आधारित होता है जिसमें शहद, ब्रेड, हरे सेब, माल्ट, गोल्डन किशमिश, चावल का पुडिंग आदि शामिल होता हैं। स्वाद आमतौर पर दानेदार भूसी और हॉप्स से आने वाली कुछ हल्की कड़वाहट के साथ मीठा होता है। यह अमेरिकी माल्ट का एक भारतीय पुनरावृत्ति है। यह हल्के नाश्ते के साथ वास्तव में अच्छी तरह से चला जाता है, जिसकी भारत में सप्लाई में कोई कमी नहीं है।

गॉडफादर

गॉडफादर एक अविश्वसनीय रूप से भारतीय लेगर बियर है जिसने बाजार में अपनी छाप छोड़ी है। 25 सालों से भी अधिक समय पहले लॉन्च हुए गॉडफादर ने एक स्ट्रांग भारतीय बेवरेज के रूप में अपनी प्रतिष्ठा बनाई है। यह देवंस मॉडर्न ब्रेवरीज लिमिटेड द्वारा जम्मू में अपने शराब की भठ्ठी में तैयार किया जाता है। इसका उत्पादन 1961 में शुरू हुआ था। यह 25 दिनों वाले एक ब्रूइंग साईकल (शराब बनाने का चक्र) का अनुसरण करता है, जो कि इसके स्ट्रांग और इंटेंस फ्लेवर के पीछे का कारण है। इस बियर के तीन रूप हैं: स्ट्रॉन्ग (7.5% एबीवी), लेगर (5% एबीवी) और लाइट (4.5% एबीवी)।

यह उत्तरी भारतीय राज्यों में अत्यधिक लोकप्रिय है, जहाँ इसने कई लॉयल फैन्स को जमा किया है। इसका कस्टमर बेस 20-50% है।

यह स्मूद और थोड़े मीठे स्वाद के साथ एक साधारण मिला हुआ अमेरिकी लेगर है। ब्रूइंग की प्रक्रिया और फर्मेंटेशन यह सुनिश्चित करता है कि यह थोड़ा डार्क और स्मोकी भी हो जाए। पानी में कार्बोनेशन का स्तर मध्यम से बहुत अधिक होता है। अरोमा में मुख्य रूप से अनाज और थोड़ा सा शहद होता है, जो कि हॉप्स से दबा नहीं है। इसमें एक अच्छा सफेद हेड होता है, और अच्छी स्पष्टता (क्लैरिटी) होती है जिसमें बहुत कम या कोई लेस नहीं होता है।

होएगार्डन

शिल्प के वास्तव में प्रमुख होने से पहले होएगार्डन एक क्राफ्ट बियर था। इनकी खासियत है व्हीट (गेहूं) बियर, जिसने 70 से ज्यादा देशों में बियर लवर्स को खुश कर दिया है। उनमें से हर किस्म आसानी से स्वाद प्रोफ़ाइल को पकड़ देती है। लेकिन यदि आप एक शुरुआती प्वाइंट चाहते हैं, तब उनकी पहली बेल्जियम व्हीट बियर को ट्राई करें, और आप निराश नहीं होंगे। यह मीठा होता है, लेकिन बहुत अधिक नहीं है, और इसमें एक उत्कृष्ट फ़िज़ है जो इसे किसी भी उत्सव के लिए एक आदर्श ड्रिंक बनाता है।

होएगार्डन का उत्पादन एक विशिष्ट (ब्रेवरी) शराब की भठ्ठी द्वारा नहीं किया गया था, बल्कि 1445 एडी में बेल्जियम में होएगार्डन नामक एक पूरे गांव द्वारा किया गया था। मध्य युग के शुरूआत से ही यह गाँव अपने 'विटबिरेन' या सफेद बियर के लिए प्रसिद्ध था। लेकिन जिस आदमी ने होएगार्डन का आधुनिक ब्रांड बनाया वह आज पियरे सेलिस है। 1957 में, सभी व्हीट बियर ब्रुअरीज और होएगार्डन की डिस्टिलरी ने दुकान बंद कर दी। सेलिस ने अपने स्वयं के शराब की भठ्ठी, डी क्लुइस में गांव के क्लासिक ब्रू को फिर से बनाया। लेकिन उसमें आग लगने के बाद, उन्होंने 1985 में शराब की भठ्ठी को इंटरब्रे को बेच दिया। और कुछ और स्वामित्व परिवर्तनों के बाद, होएगार्डन ब्रेवरी का स्वामित्व वर्तमान में एबी इनबेव (Anheuser-Busch InBev) के पास है।

सेलिस की रेसिपी गेहूं, धनिया, लराहा (सूखे कुराकाओ के पत्ते), और हॉप्स जैसी सामग्री के साथ पारंपरिक रूप से भिन्न थी। इस तरह आप अब भी अपनी होएगार्डन बियर प्राप्त करते हैं। यह नाटकीय रूप से विपरीत स्वादों से भरा है, और यही कारण है कि यह सभी प्रकार के व्यंजनों के साथ अच्छी तरह से चला जाता है।

चाहे वह ब्रंच हो या पार्टी, आप मूल रूप से सलाद, मसल्स और किसी भी तरह के मेडिटेरेनियन भोजन के साथ इस बियर का आनंद ले सकते हैं। लेकिन इसके साथ भारतीय खाना भी अच्छा लगता है। इसे कबाब या अन्य डीप-फ्राइड स्नैक्स के साथ पेयर करें, और आप खुशी से झूम जाएँगे।

क्लासिक व्हीट बियर (4.9% एबीवी), रोज़ी (3% एबीवी), साइट्रॉन (3% एबीवी), स्पेशल (5.7% एबीवी), ग्रैंड क्रू (8.5% एबीवी), जुइलस ( 8.8% एबीवी), और फॉरबिडेन फ्रुट (8.5% एबीवी)।

बीरा 91

यदि आप मेनस्ट्रीम के बियर से तंग आ चुके हैं और कुछ नया आजमाना चाहते हैं, तब आपको दूर देखने की जरूरत नहीं है। भारत को अपना तारणहार मिला है, और वह बैंगलोर से बीरा 91 है। उन्होंने एक कल्ट फॉलोइंग (पंथ अनुगामी) अर्जित किया है, और जो यह दिखाते हुए कि एक भारतीय ब्रांड निश्चित रूप से ऐसा कर सकता है, अन्य भारतीय शिल्प ब्रुअर्स के लिए रास्ता सुगम कर दिया है।  वे अब भारत के आसपास के 15 से अधिक शहरों के साथ-साथ यूके, यूएसए, यूएई, सिंगापुर, थाईलैंड आदि में विदेशों में भी उपलब्ध हैं।

उनका नाम दो भागों के साथ आता है। बीरा पंजाबी में भाई के लिए बोलचाल का शब्द है, और 91 भारत का देश कोड है।

यह भारत में उत्पादित सबसे प्रसिद्ध क्राफ्ट बियर में से एक है। क्राफ्ट या शिल्प बियर बड़े पैमाने पर उत्पादित नहीं होते हैं, इसलिए वे अपनी गुणवत्ता और निरंतर प्रयोग और इनोवेशन पर बहुत अधिक निवेश करते हैं। क्राफ्ट ब्रुअर्स उतने ही विविध हैं जितने इसे प्राप्त कर सकते हैं। और बीरा के पास इस स्थान का स्वामित्व है, क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में भारत में बियर की मांग और बाजार तेजी से बढ़ रहा है।

बीरा दिल और आत्मा से भारतीय है, इसलिए वे जानते हैं कि कौन-सा फ्लेवर प्रोफ़ाइल भारतीयों को सबसे ज्यादा पसंद है, और इसे उसी स्टाइल के साथ तैयार किया जाता है। उनके बियर में ज्यादा कड़वाहट नहीं होती है, और वे साइट्रस के कुछ अच्छे टेस्ट लिए होते हैं। यह स्मूद, साफ्ट और कायाकल्प करने वाला होता है।

बीरा ने 2015 में भारतीयों के सामने अपना परिचय दिया और तब से, उन्होंने अपना खुद का फैनबेस इकट्ठा कर लिया है। उनकी पहली शराब की भठ्ठी फ़्लैंडर्स, बेल्जियम में स्थित थी और उन्होंने दुनिया भर से (फ्रांस, बेल्जियम और यहाँ तक ​​​​कि कुछ हिमालयी और बवेरियन उत्पादों से) सबसे अच्छी सामग्री का उपयोग किया था।

लेकिन उनकी बहुत बड़ी सफलता के बाद, उन्होंने पूरी उत्पादन इकाई को भारत में स्थानांतरित कर दिया, हालांकि सभी सामग्री एक समान ही रही- गेहूं, जौ, हॉप्स और कुछ जादू।

बीरा का निर्माण बी9 बेवरेजेज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया जाता है। इस लिमिटेड जिसके संस्थापक अंकुर जैन, जिन्होंने देखा कि बियर उद्योग में भारतीय भी कुछ प्रेरणा के पात्र हैं। इसलिए वह 1998 में अमरीका से भारत आ गए, और ठीक वैसा ही किया।

उनके पास इस समय उनके प्रदर्शनों की सूची में पूरे वर्ष भर में छह वेरिएशन हैं- बीरा 91 व्हाइट (क्लाउडी, कम कड़वाहट, अनफ़िल्टर्ड, खमीर होता है, साज़ हॉप्स, संतरे के छिलके और धनिया के साथ अत्यधिक सुगंधित, 4.7% एबीवी), ब्लोंड समर लेगर (मीडियम कड़वाहट क्लासिक लेगर, जौ माल्ट, चावल, गेहूँ और नोबल हॉप्स से निर्मित, 4.5% एबीवी), लाइट (कम कैलोरी वाला लेगर, मीडियम कड़वाहट, हॉप्स और मक्का मौजूद है, 3.5% एबीवी), बूम सुपर स्ट्रॉन्ग (माल्टी म्यूनिख लेगर, इंटेंस लेकिन हल्का मीठा, मीडियम कड़वाहट, दो रो जौ की, केरेमल माल्ट, हॉप्स और चावल से बना, लगभग 8% एबीवी), गोल्ड (स्ट्रांग गेहूँ बियर वीज़ेनबॉक स्टाइल, क्लाउडी, झागदार, यीस्ट के साथ अनफ़िल्टर्ड, मीडियम कड़वाहट, माल्टी और शहद की मिठास, भारतीय गेहूं और केरेमल माल्ट से बनी, लगभग 8% एबीवी), और बूम क्लासिक (गेहूँ की बियर बेल्जियम स्टाइल, मीडियम कड़वाहट, मखमल की तरह चिकनी, क्लाउडी, हल्की मीठी, गेहूँ, संतरे के छिलके, धनिया, साज़ हॉप्स और जौ माल्ट, से बनी 4.7% एबीवी)।

लेकिन वे नए फ्यूजन और क्रिएटिव फ्लेवर के साथ आने के लिए भी प्रसिद्ध हैं। उनके कुछ बेहतरीन एक्सपेरिमेंटल बियर हैं- मालाबार स्टाउट, पेल एले आईपीए ब्रूड विद पोमेलो, बॉलीवुड आईपीए, मैंगो लस्सी एले, कोकम सॉर बियर, ब्राउन एले।

सिम्बा

जब बीरा ने भारत में शिल्प बियर की क्रांति शुरू की, तब कई उनके नक्शेकदम पर चले, और उन ब्रांडों में से एक सिम्बा सबसे अच्छा है। उन्होंने 2016 में अपना ऑपरेशन शुरू किया, इसलिए वे बाजार में काफी नए हैं। लेकिन उन्होंने इसे काफी जल्दी और आराम से सीख लिया।

उनके सभी बियर बेहद उच्च गुणवत्ता और पूरी तरह से केमिकल फ्री होते हैं। वे भारत के अंदर कई ब्रुअरीज में, छोटे-छोटे बैचों में बियर बनाते हैं। यह उन्हें विभिन्न प्रकार के एक्सपेरिमेंट फ्लेवर्स बनाने की आजादी होती है।

लेकिन वे अपनी सामग्री की गुणवत्ता में कोई समझौता नहीं करते हैं। वे जर्मनी से सबसे अच्छे हॉप्स और माल्ट्स का चुनाव करते हैं। यह उन लोगों के लिए एक स्वादिष्ट विकल्प है जो बिल्कुल कड़वा बियर पसंद नहीं करते हैं। यह वर्तमान में कुछ बड़े शहरों में उपलब्ध है, लेकिन आने वाले वर्षों में कंपनी की विस्तार की योजना है। आप वर्तमान में दिल्ली, बेंगलुरु, मुंबई, कोलकत्ता, असम और गोवा में इसका स्वाद ले सकते हैं।

यह एक और ब्रांड हैं जिन्होंने इसे भारत में बियर की मुख्यधारा (मेनस्ट्रीम) की पसंद बनने के लिए बनाया है। उनकी कैप में एक और पंख यह बताता है कि उनका सिम्बा स्टाउट भारत में बोतलबंद होने वाला पहला क्राफ्ट स्टाउट है। उनकी चार विविधताएँ हैं- सिम्बा विट, सिम्बा स्ट्रॉन्ग, सिम्बा स्टाउट और सिम्बा लाइट।

रॉयल चैलेंज

रॉयल चैलेंज यूनाइटेड स्पिरिट्स लिमिटेड (डियाजियो ग्रुप का हिस्सा) द्वारा निर्मित एक प्रीमियम भारतीय लेगर है, और उनकी टैगलाइन द्वारा उन्हें सबसे अच्छा वर्णन किया गया है- 'ब्रूड स्ट्रॉन्गर ब्रूएड बेटर'। यह स्पष्ट रूप से स्पष्ट करता है कि उनके बियर का स्वाद उनके ब्रूइंग की अवधि के कारण प्राप्त किया जाता है। वे इसे अधिक समय तक करते हैं, जो बदले में उनकी बियर को थोड़ा अतिरिक्त पंच के साथ भर देता है।

इसका स्वाद इंटेंसली वाइब्रेंट, और माल्टी है। सुगंध बहुत प्यारी है और बाद की गंध (आफटर-स्मेल) में साइडर के नोट हैं। रॉयल चैलेंज को सर्वश्रेष्ठ छह माल्ट जौ के साथ तैयार किया गया है जो उन्हें दूसरों से अलग बनाता है।

रॉयल चैलेंज पिछले काफी समय से पूरे भारत में व्हिस्की प्रेमियों की प्यास बुझा रहा है, वह भी एक बजट में। लेकिन उनकी बियर ने भी कुछ समय बाद से भारत में बियर के शौकीनों की कल्पना पर कब्जा करना शुरू कर दिया है। और जैसा कि वे कहते हैं, अंत भला तो सब भला। वास्तव में, वे भारत में सबसे अधिक बिकने वाले बियर ब्रांडों में से एक बन गए हैं। वे प्रति वर्ष 2.5 मिलियन से अधिक यूनिट बेचते हैं। यह कुछ राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा आदि में बहुत लोकप्रिय है। कुछ दक्षिण भारतीय राज्यों में, यह बियर किंगफिशर को भी पीछे छोड़ देती है। यह साबित करता है कि उनके कुछ बहुत ही लॉयल फैन्स हैं।

व्हाइट राइनो

व्हाइट राइनो ब्रूइंग कंपनी को भारत का पहला क्राफ्ट बियर ब्रूअरी माना जाता है। वे अपने खुद के तरीके से इन्नोवेटर रहे हैं। उन्होंने 2016 में बाजार में प्रवेश किया, और तब से, वे एक लंबा सफर तय कर चुके हैं।

इनकी ब्रूअरी (शराब की भठ्ठी) चंबल के एक स्थान मालनपुर में स्थित है। उन्होंने यूरोपीय और अमेरिकी शराब बनाने के मानकों को सख्ती से लागू किया है।

शराब की भठ्ठी और उसके उपकरण संयुक्त राज्य अमेरिका में निर्मित किए गए थे, और बॉटलिंग की मशीनरी चेक गणराज्य में बनाई गई थी। यह उन उच्च मानकों (हाई स्टैंडर्ड) के पीछे का कारण है जिन्हें वे बनाए रखने में सक्षम हैं।

उनकी विविधताएँ हैं- विट (बेल्जियम शैली में गेहूँ बियर, हेज़ी, भारतीय किस्म के रोल्ड गेहूँ, पिल्सनर माल्ट, संतरे के छिलके, धनिया और मैग्नम हॉप्स, 4.9% एबीवी), लेगर (प्रॉपर क्राफ्ट लेगर, गोल्डन रंग, एक-सौ प्रतिशत पिल्सनर माल्ट और नोबल हॉप्स जैसे मैग्नम, मित्तलफ्रूह और टेटनैंजर, एक महीने से अधिक समय तक ब्रू किया गया, 4.8% एबीवी) और इंडिया पेल एले (एक भारतीय क्लासिक, बहुत समृद्ध या रीच स्वाद और सुगंध का एक आधुनिक टेक, पेल माल्ट से बनाया गया और चयनित हॉप्स जैसे मोज़ेक, स्टायरियन गोल्डिंग्स, अहटानम, और कैस्केड, 6.3% एबीवी)। वे इन बियर को विदेशों में भी बेचते हैं, बस पश्चिमी समुदायों के स्वाद के अनुरूप कुछ सामग्रियों को बदलते हैं।

कटी पतंग

कटी पतंग सबसे इनोवेटिव क्राफ्ट बियर में से एक है जो शिल्प आंदोलन के माध्यम से आया है जिसने भारत में बियर बाजार को हिला दिया है। वे भूटान में अपनी बियर ब्रू करते हैं और हिमालय के मीठे पानी का उपयोग अपने पेय पदार्थों को अधिक जोरदार और कायाकल्प करने के लिए करते हैं।

उन्होंने 2018 में अपनी यात्रा शुरू की, और इसके संस्थापक शांतनु और लता को वह सारी प्रेरणा उन्हें खुद उस आदमी से मिली, जो क्राफ्ट बियर के पिता माने जाते हैं, जिम कोच।

इसलिए, उन्होंने एक बियर ब्रांड बनाया जो स्वतंत्रता का प्रतिनिधित्व करता है जिसे वे चाहते हैं कि लोग उसका आनंद लें। वे अभी कुछ राज्यों में उपलब्ध हैं, और यह संख्या केवल बढ़ेगी। ये राज्य हैं दिल्ली, महाराष्ट्र, चंडीगढ़, गोवा, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और कर्नाटक।

आप वही हैं जो आप हो, और आप जो कुछ भी हो सकते हैं वह हो सकते हैं। कटी पतंग इसी तरह के फिलोसोफी का समर्थन करना चाहती हैं। उनका नाम भी उस तरह की स्वतंत्रता का एक रूपक है। 'कटी पतंग' का शाब्दिक अर्थ है एक कटी हुई पतंग, जो हवा में बहती है, बिना किसी बेड़ियों के अर्थात बिना किसी रूकावट के।

उन्होंने भारी एक्सपेरिमेंट किया, और आश्चर्यजनक मात्रा में तरह-तरह के किस्मों को ब्रू किया है। उन्होंने अपने शराब और संदेश फैलाने के लिए गुड़गांव में एक कैफे भी खोला है।

उनकी कुछ विविधताएँ हैं- ज़ेस्टी एम्बर (मल्टी, हॉपी अरोमा, पेचिदा केरेमल स्वाद), स्नैपी व्हीट (गोल्डन, गेहूँ, नींबू और दिलचस्प रूप से, कुछ भारतीय मसाले जैसे पेपरकॉर्न, हल्दी, धनिया और अदरक से बना), केसर लेगर (वास्तव में प्रयोगात्मक लाइट लेगर, क्रिस्पी, और इसमें केसर, ओएमजी?), और बरेली बोल्ड (स्ट्रांग लेगर जो कि पलाश, भारत का एक वसंत फूल के यूनिक नोट्स के साथ होता है)

बीयंग

बीयंग एक क्राफ्ट बियर ब्रांड है जो भारत के उन युवाओं के लिए डिलिवर करना चाहता है, जो बोतल के हर घूंट में वाइब्रेंशी, स्पिरिट और रोमांच चाहते हैं। इसलिए उन्होंने भारत की पहली क्राफ्ट स्ट्रॉन्ग बियर बनाई। उनका संदेश यह है कि युवा होना आपकी उम्र के बारे में नहीं है, यह एक मनःस्थिति है। उनका मोटो उनके उत्पाद में भी दिखाई देता है: युवा और फ्री।

बीयंग किमाया हिमालयन बेवरेजेज द्वारा निर्मित है, और यह सब 2018 में शुरू हुआ। उनका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। वे पहले ही विदेशी भूमि पर पहुँच चुके हैं, और निकट भविष्य में उनके व्यापार को और अधिक राज्यों में विस्तारित करने की उनकी योजना है। वर्तमान में, आप दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तराखंड में उनकी बियर का स्वाद ले सकते हैं। और विदेशों में, वे अपनी बियर सिंगापुर भी भेजते हैं।

उनकी बियर को बहुत देखभाल, सटीकता और उच्चतम गुणवत्ता वाली सामग्री के साथ तैयार किया जाता है। वे दो-रो जौ, सौ प्रतिशत शुद्ध सॉर्टेक्स चावल, भाखड़ा बांध के मीठे पानी, कोलंबस और स्टायरियन गोल्डिंग हॉप्स के साथ अपने ब्रू का उपयोग करते हैं। इनकी बियर हल्के रंग की होती है जिसमें लिम्पिड-गोल्ड लुक और पतला झाग होता है। रसदार फल के मध्यम-स्वाद के साथ इसका फ्लेवर प्रोफ़ाइल क्रिस्पी और माल्टी होता है। वे अपनी बियर को 500 मिलीलीटर के कैन और बोतलों के साथ-साथ स्टैंडर्ड 650 मिलीलीटर की बोतलों में भी बेचते हैं।

बीर 360

बीर 360 एक नए जमाने की बियर है जो ब्रू किंग द्वारा युवा आबादी और जेनेरेशन -Z पीढ़ियों के लिए बनाई गई है, ताकि उन्हें शुद्धता का स्वाद मिल सके। इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए, वे हिमालय के मीठे पानी का उपयोग विशेष रूप से अपने शराब बनाने के लिए करते हैं। वे छोटे-छोटे बैचों में गेहूं और क्लासिक लेगर बियर बनाते हैं।

वे अपने शिल्प की बहुत परवाह करते हैं, और ऑरिजनल के मूल सिद्धांतों से विचलित हुए बिना, क्लासिक्स के इंडियन रीडिज़ाइन करना चाहते हैं। हालांकि इस समय उनकी पहुँच बहुत सीमित है। वे केवल दिल्ली और गुरुग्राम में ही उपलब्ध हैं।

उनकी दो विविधताएँ हैं- क्राफ्ट लेगर (माल्ट, ब्रेड और शहद के सूक्ष्म नोटों के साथ क्लियर लेगर, शून्य कड़वाहट, ड्राई और क्रिस्पी फिनिशिंग नोट, 4.9% एबीवी) और क्राफ्ट व्हीट (हेज़ी, खूब नशीली, सुनहरे रंग का, अनफ़िल्टर्ड, गेहूँ, हॉप्स, जौ माल्ट, लौंग के संकेत, केला, कैमोमाइल और संतरे के छिलके, कड़वा नहीं, संतुलित फिनिश के साथ बनाया गया)

व्हाइट आउल

व्हाइट आउल नई और पुरानी शराब बनाने की तकनीक का पर्फेक्ट कॉम्बिनेशन है। लेकिन ये दोनों इस मामले में आपस में नहीं टकराते, बल्कि एक-दूसरे को समृद्ध करते हैं। वे क्राफ्ट बियर के प्रशंसकों के लिए एक प्रिय बियर ब्रांड बन गया है।

यह व्हाइट आउल ब्रेवरी प्राइवेट लिमिटेड द्वारा निर्मित है, और उनका मुख्यालय मुंबई में है। उन्होंने माइक्रो-ब्रूअरी के रूप में शुरुआत की थी, लेकिन बाद में मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु और गोवा जैसे अन्य शहरों में अपने कारोबार का विस्तार किया है। इस ब्रांड के मालिक, जावेद मुराद, एक हार्वर्ड स्नातक हैं, जो भारत को एक उच्च श्रेणी की बियर देना चाहते हैं जिसे कि अधिकांश लोग अफोर्ड कर सकते हों।

उनके पास रायसेन, मध्य प्रदेश में एक मैनुफैक्चरिंग प्लांट है जो क्राफ्ट बियर के तेजी से बढ़ते बाजार में अपने स्वाद को अलग करने के लिए नैचुरल फर्मेंटेशन (प्राकृतिक किण्वन), उच्चतम सामग्री और प्रॉपर एजिंग को अमल करता है।

उनके पास ऑफर करने के लिए आठ विविधताएँ हैं- हैल्सियन (लौंग और केले के नोट्स, एक लोकप्रिय जर्मन स्टाइल की तरह), शैडो (स्ट्रांग, हल्का चॉकलेटी, रोस्टेड इंग्लिश पोर्टर), डियाब्लो (कैरेमेल के सूक्ष्म नोट के साथ रेड एले आयरलैंड स्टाइल), ऐस (फ्रेंच ऐप्पल साइडर, तरोताज़ा मीठा), टारपीडो (अमेरिकन पेल एले, स्ट्रांग साइट्रस नोट्स के साथ पन्ची (असरदार) स्वाद), पॉलिना (जर्मन कोल्श, सेब और नाशपाती के फ्रुटी नोट्स), स्पार्क (स्ट्रांग साइट्रस नोट्स के साथ बेल्जियम विट), नाउ ऑर नेवर (एक इंटेंस सिज़नल एले)।

मिलर

मिलर एक अमेरिकी बियर ब्रांड है, जो मिलर ब्रूइंग कंपनी द्वारा निर्मित है जिसे 1855 में स्थापित किया गया था। उनका मुख्यालय मिल्वौकी, विस्कॉन्सिन में है। इस ब्रांड के वर्तमान मालिक, मोल्सन कूर्स ने 2016 में पूर्ण पोर्टफोलियो और ग्लोबल अधिकार प्राप्त कर लिया।

मिलर ब्रूइंग कंपनी के संस्थापक, फ्रेडरिक मिलर 1854 में एक अलग तरह की शराब बनाने वाले यीस्ट के साथ जर्मनी से आए थे। उन्होंने स्थानीय खेतों तक पहुँच बनाने के लिए अभी के प्रसिद्ध मिलर घाटी में एक छोटी शराब की भठ्ठी खरीदी। कई हैंडओवर के बाद, अब यह एबी इनबेव के तहत मोल्सन कूर्स के स्वामित्व में है।

मिलर द्वारा उत्पादित कुछ बेहतरीन बियर हैं- हाई लाइफ (1903 में पहली बार लॉन्च की गई पिल्सनर स्टाइल की बियर सबसे पुरानी विविधता है, अत्यधिक कार्बोनेटेड, उपनाम 'द शैम्पेन ऑफ बियर', 4.6% एबीवी), लाइट (दुनिया की पहली हल्की बियर है जिसने व्यापक लोकप्रियता प्राप्त की है, 4-4.2% एबीवी), जेन्युइन ड्राफ्ट (हाई लाइफ के समान, लेकिन यह कोल्ड-फ़िल्टर्ड है, 4.7% एबीवी), 64 (केवल 2.8% एबीवी के साथ अल्ट्रा-लाइट बियर), क्लासिक चॉकलेट लेगर (सिज़नल लेगर, छह प्रकार के माल्ट से बना है जिसमें चॉकलेट और डार्क चॉकलेट शामिल हैं), शार्प (नॉन-अल्कोहल बियर), मिकी (5.6% एबीवी के साथ माल्ट लिकर), मिल्वौकीज़ बेस्ट आइस (इकोनॉमी आइस बियर, 5.9% एबीवी, उपनाम 'द यति', 'बीस्ट आइस'), मिल्वौकीज़ बेस्ट (इकोनॉमी ऑफरकी, 4.3% एबीवी, जिसे आमतौर पर 'द बीस्ट', 'मिल्वौकीज़ वर्स्ट', 'मिली बी' के नाम से जाना जाता है)।

स्टैला आर्टोईस

स्टेला आर्टोइस एक क्लासिक बेल्जियम बियर है, जिसने पिल्सनर बियर के लिए एक स्टैंडर्ड निर्धारित किया है। यह बेल्जियम में स्थित ल्यूवेन और जुपिल में निर्मित है। हालांकि बेल्जियम के बाहर, यह आमतौर पर विभिन्न व्यावसायिक कारणों के कारण बहुत कम अल्कोहल लेवल के साथ बेचा जाता है, और जो कि आबादी के व्यापक हिस्से के स्वाद के अनुरूप होता है।

इसके ऑरिजनल बियर में 5.2% एबीवी होता है, और यह यूके, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड आदि जैसे कई अन्य देशों में अलग-अलग एबीवी के साथ बेचा जाता है। यह आम तौर पर डिब्बा-बंद में बेचा जाता है, हालांकि इसकी अलग-अलग पैकेजिंग उपलब्ध हैं। यह बियर सबसे अच्छा चिल्ड सर्व किया जाता है, संभवतः 3-5 डिग्री सेल्सियस के बीच।

क्रिसमस स्टार स्टेला के नाम पर स्टेला आर्टोइस को 1926 में क्रिसमस के अवसर पर 'ब्रौवरिज आर्टोइस' द्वारा लॉन्च किया गया था। दरअसल, इस जगह ने सबसे पहले 1366 में अपने दरवाजे खोले थे, तब इसे 'डेन होर्न' ब्रूअरी (शराब की भठ्ठी) के नाम से जाना जाता था। लेकिन 1717 में सेबस्टियन आर्टोइस इसका मालिक बन गया, और इस जगह का नाम बदलकर ब्रौवरिज आर्टोइस कर दिया। इन वर्षों के दौरान, स्वामित्व 2008 में अपने वर्तमान मालिक एबी इनबीवी के अधीन आने से पहले मालिकाना अधिकार दो बार (इंटरब्रू और इनबीवी) के हाथों बदले गए।

स्टेला आर्टोइस के विभिन्न देशों के लिए अलग-अलग अल्कोहल के स्तर हैं, जैसे उन्होंने यूके के मार्केट में एबीवी को 4.8% से घटाकर 4.6% कर दिया है। उनके पास दो और विविधताएँ हैं- स्टेला आर्टोइस 4% (कम अल्कोहल के स्तर वाला एक और यूके संस्करण, जिसे 2008 में लॉन्च किया गया), और स्टेला आर्टोइस सिड्रे (2011 में लॉन्च किया गया एक साइडर प्रकार का बिवरेज)।

असाही

असाही एक प्रीमियम जापानी बियर है जिसका उत्पादन असाही ग्रुप होल्डिंग्स लिमिटेड द्वारा किया जाता है, जिसका मुख्यालय सुमिदा, टोक्यो में है। कंपनी की स्थापना 1889 में ओसाका में हुई थी, लेकिन उस समय इसका नाम 'ओसाका बियर कंपनी' था। यह स्वदेशी जापानी अल्कोहलिक बिवरेज साके से काफी प्रेरित है, और यूरोप में भी अकेले ही सुपर-ड्राई बियर को लोगों का पसंदीदा बना दिया है।

असाही की अपनी मातृभूमि जापान में सबसे बड़ी मार्केट शेयर है, जो कि 37% है। घरेलू बाजार पर विजय प्राप्त करने के बाद, असाही ने अपनी पहुँच और पोर्टफोलियो का विस्तार करने पर ध्यान केंद्रित किया। 2000 के दशक की शुरुआत से, उन्होंने पश्चिमी और मध्य पूर्वी यूरोप के प्रतिष्ठित बियर ब्रुअरीज का अधिग्रहण करना शुरू कर दिया। इसके परिणामस्वरूप कुछ यूरोपीय देशों में बड़ी सफलता और एक ठोस बाजार हिस्सेदारी इन्हें मिली है। चेक गणराज्य में, उनकी बाजार हिस्सेदारी 44% है। यह पोलैंड में 32%, रोमानिया में 36%, ऑस्ट्रेलिया में 48.5% और इटली में 18% है। उनके द्वारा हासिल किए गए कुछ व्यवसाय हैं:

  • ऑस्ट्रेलिया के 'श्वेप्स ऑस्ट्रेलिया', 'कार्लटन एंड यूनाइटेड ब्रेवरीज', 'क्रिकेटर्स आर्म्स' और 'माउंटेन गोट ब्रेवरी'।
  • न्यूजीलैंड के 'चार्लीज', 'इंडिपेंडेंट लिकर' और 'पी एंड एन बेवरेजेज'।
  • नीदरलैंड्स का 'ग्रोलश ब्रेवरी'।
  • इटली की 'पेरोनी ब्रेवरी'।
  • ब्रिटेन से 'मीनटाइम ब्रेवरी' और 'फुलर ब्रेवरी'।
  • चेक गणराज्य के 'पिल्सनर उर्केल'।
  • पोलैंड के 'टायस्की' और 'लेच',
  • हंगरी से 'ड्रेहर'।
  • रोमानिया से 'उर्सस' आदि।

असाही के कई रूप हैं। कुछ उसमें बहुत बेहतरीन हैं- असाही सुपर ड्राई (यह उत्पाद जिसने जापानी बियर में क्रांति ला दी, अत्यधिक क्रिस्पी टेस्ट के साथ एक अत्यंत गाढ़ा लेगर, ड्राई बियर का फ्लैगबियरर), ड्राफ्ट (ऑरिजनल नुस्खा, 1892 में लॉन्च किया गया), Z (एक ड्राई लेगर) , ब्लैक (5% एबीवी के साथ डार्क लेगर), प्राइम टाइम (जापानी मार्केट के लिए विशेष, एक जर्मन स्टाइल पिल्सनर) और असाही स्टाउट।

सिंघा

सिंघा थाईलैंड की एक पीली लेगर बियर है, जो सिंघा कॉर्पोरेशन कंपनी लिमिटेड द्वारा निर्मित है, जो बून रॉड ब्रेवरी के तहत संचालित होती है। यह 1933 में अस्तित्व में आया, और उसके बाद के सभी वर्षों में, उन्होंने एक विरासत और प्रतिष्ठा का निर्माण किया है जिसने दक्षिण एशियाई शराब उद्योग को प्रेरित किया है।

वे इस समय 50 से अधिक देशों में अपनी बियर बेचते हैं। उनके पास बियर के दो संस्करण उपलब्ध हैं: स्टैंडर्ड (5% एबीवी के साथ) और लाइट (3.8% एबीवी)। वे अपना जादू बुनने के लिए उच्चतम गुणवत्ता वाली सामग्री का प्रयोग करते हैं। सौ प्रतिशत शुद्ध प्रीमियम माल्ट, जौ, जर्मनी से आने वाले साज़ हॉप्स को सिंघा का प्रतिष्ठित रंग और स्वाद प्राप्त करने के लिए धीरे-धीरे ताजे स्प्रिंग वाटर में ब्रू किया जाता है। बनाई गई बियर सुनहरे-पीले रंग की होती है, जो बेहद रीच और खूब नशीली होती है।

सिंघा विशिष्ट रूप से थाई हैं। यह थाई संस्कृति का सबसे अच्छा प्रतिनिधित्व करता है- जिन्दगी को मस्ती में जीना, सभी अच्छे समय को शेयर करना, उदारता, ऑफर करने के लिए एक मुस्कान, और जोश से भरी हुई स्वागत करने वाली भावना। बोतल का रंग और डिजाइन भरोसे और गुणवत्ता का प्रतीक बन गया है जिसे उन्होंने इन सभी वर्षों में बनाए रखा है। उनकी उत्पत्ति बैंकॉक में हुई हैं, लेकिन पूरी दुनिया ने उनका आनंद लिया है।

बेक'स आइस

बेक'स आइस एक स्ट्रांग बियर है जो जर्मन होने के हर बॉक्स में टिकती है। इसके पीछे उस मजबूत इतिहास के साथ, उनके ब्रांड का लक्ष्य भारत की युवा आबादी को अपने प्रभाव में लेना है। इसने पहले ही भारत में उपलब्ध स्ट्रॉन्ग बियर में सबसे स्मूथ होने की अपनी अद्वितीय प्रतिष्ठा हासिल कर ली है। यह संतुलन बनाना कठिन है, लेकिन बेक 'आइस इसे बड़ी निरंतरता के साथ करता है।

बेक'स आइस में 7% एबीवी है, जो इसे भारत में सबसे अधिक बिकने वाली स्ट्रॉन्ग बियर में से एक बनाता है। इनके बियर एक सौ प्रतिशत शुद्ध माल्ट से बनाई गई है और इसमें अविश्वसनीय रूप से स्मूद स्वाद है। इसलिए एबी इनबेव ने इस बियर को भारतीय महिलाओं की पसंदीदा बियर बनने के लिए बढ़ावा दिया।

यह बेक ब्रूअरी द्वारा निर्मित है, जिसे ब्रेमेन, जर्मनी में स्थित ब्रुएरेई बेक एंड कंपनी भी कहा जाता है, और इसकी स्थापना 1873 में हुई थी। 2001 में, वे जर्मनी में चौथे सबसे बड़े शराब बनाने वाले थे, लेकिन इंटरब्रू ने उसी वर्ष 1.8 बिलियन यूरो में बेक को खरीदा। और 2008 के बाद से, यह एबी इनबेव के स्वामित्व में है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, बेक'स ब्रू का मुख्यालय सेंट लुइस में मिसौरी में है। हालांकि, 2012 से, कई ग्राहकों ने यूएसए वेरिएशन के खिलाफ अपनी नाराजगी व्यक्त की है।

ब्लैक माम्बा

ब्लैक माम्बा मुंबई बेस्ड क्राफ्ट ब्रूअरी ब्रूबोट की सबसे मजबूत पेशकश है। हेल, यह शायद सभी क्राफ्ट बियर में सबसे स्ट्रांग है, और अच्छी मात्रा के लिए, आप लिस्ट में सबसे कड़वा भी कह सकते हैं। लेकिन यदि आपको सुपर-स्ट्रॉन्ग बियर का फेटिश हैं, तब तो ब्लैक मांबा आपकी पसंद का ही जहर है। हालांकि, यदि आप इस अनोखे मिश्रण का स्वाद लेना चाहते हैं तब तो आपको मुंबई में रहने की जरूरत है।

इस बियर को वर्गीकृत करना बहुत कठिन है। इसका सबसे अच्छा डिस्क्रिप्शन चॉकलेट ओट क्रीम स्टाउट होगा। हाँ, इसे ब्रूबोट कहते हैं। यह चॉकलेट और कॉफी से बना एक स्टाउट है, और इसमें 5.2% एबीवी है।

इसकी एक विशिष्ट फ्लेवर प्रोफ़ाइल है जो चॉकलेट और कॉफी के संकेत के साथ माल्टी और रोस्टेड या भुना हुआ जैसा है। इसमें नाइट्रो फिनिश भी है जो क्रीमी और बबली माउथफिल में खत्म होगा।

सिक्स फील्ड्स

सिक्स फील्ड्स एक बेल्जियम-स्टाइल की क्राफ्ट व्हीट बियर है जिसे डेवन्स मॉडर्न ब्रेवरीज लिमिटेड द्वारा बनाया गया है। उन्होंने भारतीय दर्शकों के लिए ऑथेंटिक बेल्जियम व्हीट बियर को फिर से दोहराने की कोशिश की है। यही कारण है कि उनके ऑरिजनल रेसिपी की विरासत की रक्षा के लिए उनके बियर को उनके ब्रूमास्टर द्वारा 500 से अधिक बार ब्लाइंड टेस्ट से गुजरना पड़ा।

इस क्राफ्ट बियर का एक अच्छा रंग है, और यह स्मूथ और सुगंधित है। उनकी दो विविधताएँ हैं- कल्ट (खट्टा स्वाद, एक मीठी सुगंध के साथ संतरे के छिलके और धनिया से बना हुआ, 7.9% एबीवी), और ब्लैंच (सफेद ब्लैंच बियर बेल्जियम स्टाइल, गेहूँ के संकेत के साथ मीठा, 4.5% एबीवी)। ब्लैंच 500 मिलीलीटर के कैन में, 330 मिलीलीटर की बोतल और 5 लीटर के केग में उपलब्ध होता है, जबकि कल्ट 500 मिलीलीटर के कैन में, 650 मिलीलीटर की बोतल और 5 लीटर की केग में बिकता है।

निष्कर्ष

अगर यदि आप मानते हैं कि भारत ने हाल ही में शराब बनाने या ब्रूइंग का विज्ञान और कला सीखी है, तब तो आपको इसके बारे में और भी पढ़ना चाहिए। एक देश के रूप में भारत की एक विरासत और शराब बनाने का जो इतिहास है वह 1500 ईसा पूर्व की है। अब, आप इससे हिसाब लगा सकते हैं।

खैर, अब तीन हजार साल से भी अधिक समय हो गया है, तब से हम चावल, जौ, फल और मसालों के साथ इसे बनाते आ रहे हैं। हालांकि शराब बनाने की आधुनिक तकनीक 1830 में आई जब एडवर्ड अब्राहम डायर ने हिमाचल प्रदेश के कसौली में भारत का (और एशिया का भी) पहला ब्रूअरी (शराब की भठ्ठी) स्थापित किया।

लेकिन समय बदल गया है। और हमारी विशाल आबादी के साथ, गुणवत्ता और विविधता की माँग नाटकीय रूप से बढ़ रही है, जिसके कारण भारत शराब के सबसे बड़े बाजारों में से एक बन गया है। ये 25 अंतरराष्ट्रीय और घरेलू ब्रांड अपनी गुणवत्ता और इनोवेशन के मामले में सबसे उच्चतम स्तर पर हैं।

इसलिए, यदि आप वास्तव में बियर पसंद करते हैं, तब तो अब आप भारत में भी सबसे अच्छी गुणवत्ता वाली बियर प्राप्त कर सकते हैं। यह सूची सिर्फ एक शुरुआती बिंदु है। मुझे आशा है कि आप हर कदम पर स्वादिष्ट बियर खोजने की अपनी यात्रा का आनंद अवश्य लेंगे।

Author

Abhinav Vasudevan

Keep checking for upcoming sales to gadgets at best price, occasionally reviews products and mostly upload coupons at KaroBargain Coupons.


Find Upcoming Sales in India

The only upcoming sales tracker you need. Period.

  • Flipkart Upcoming Sale
  • Amazon Upcoming Sale
  • Myntra Upcoming Sale