ओटीटी प्लेटफॉर्म्स: ओटीटी क्या होता है

Last Updated on 12th October, 2022  • Aishwarya Dutta   • 1 Minute Read

टेलीविजन और मनोरंजन का युग अब एक नए विषय या एक नई प्रणाली के अंतर्गत आ गया है। उस विशेष प्रणाली को ओटीटी प्लेटफॉर्म या ओवर-द-टॉप मीडिया सर्विसेज कहा जाता है। यह मार्केट पर अपनी पकड़ बनाने और ग्राहकों के दिलों और दिमाग में खुद को स्थापित करने में कामयाब भी रहे हैं। शो, फिल्मों और वृत्तचित्रों को नए तरीकों के साथ जोड़ कर पेश करते हैं और इसी माध्यम से, इन प्लेटफार्मों ने अपने काम में सर्वश्रेष्ठ होने का परिचय भी दिया है जिसके लिए वे सही मायनों में इनाम के हकदार हैं। इसके लिए हम शुक्रगुजार हैं, अब हर कोई इन प्लेटफार्मों के बारे में अधिक जानने की तलाश में है और उसी की खोज में ओटीटी की दुनिया में अपनी यात्रा शुरू करता है। लेकिन उचित मार्गदर्शन के बिना हम ऐसा नहीं कर सकते। तो आइए हमारे साथ जुड़ें क्योंकि हम आपको एक विशेष गाइड जो कि भारत में ओटीटी प्लेटफॉर्म के बारे में जानने के लिए आवश्यक चीजों को कवर करती है, उसके माध्यम से सभी जरूरी जानकारी आपको उपलब्ध कराते हैं।

अर्थ-ओटीटी क्या है?

जैसा कि आप 'ओटीटी' शब्द आमतौर पर सुनते रहते होंगे, नतीजतन आप आश्चर्य में पड़ जाते हैं कि आखिर 'यह है क्या?' वैसे तो ओटीटी का मतलब इसके फुल फॉर्म से कहीं ज्यादा होता है। ओटीटी या 'ओवर-द-टॉप' मीडिया सर्विस एक ऐसे प्लेटफॉर्म को रेफर करती हैं जो आपको मीडिया/ऑडियो/वीडियो को सीधे इंटरनेट से दर्शकों तक स्ट्रीम करने में मदद करता है। इस सेवा या सर्विस का लाभ उठाने के लिए, आपको न्यूनतम सब्सक्रिप्शन फीस का भुगतान करने के लिए कहा जाएगा और फिर आप सभी प्रकार के उपकरणों पर स्ट्रीमिंग फिल्मों का आनंद ले सकते हैं। यह सब्सक्रिप्शन-आधारित मॉडल, जिसे 'सब्सक्रिप्शन वीडियो ऑन डिमांड (एसवीओडी)' के नाम से भी जाना जाता है, काफी फैल गया है और भारत जैसे बाजारों पर भी अपनी मजबूत पकड़ बना ली है।

ओटीटी प्लेटफॉर्मों का इतिहास

ओटीटी प्लेटफॉर्म हमेशा से ही टॉप फिल्में और मनोरंजन के अन्य रूपों को आप तक पहुँचाने का जरिया नहीं था। इसकी शुरुआत छोटी थी और कई लोग इसकी बड़ी सफलता के पीछे नेटफ्लिक्स की सफलता का श्रेय देते हैं। एक नए और अनोखे आइडिया के साथ, नेटफ्लिक्स ने 1997 में डीवीडी/वीडियो टेपब्लॉकबस्टर फिल्में, और भी ना जाने क्या, किराए पर लेकर शुरुआत की थी। और उन्होंने मेल के माध्यम से सारी प्रक्रिया पूरी की थी। हालांकि, बाजार में मांग देखने के तुरंत बाद, प्लेटफॉर्म ने गियर बदल दिया और एक सब्सक्रिप्शन मॉडल की घोषणा की जहाँ एक ग्राहक को बेसिक कीमत देनी होगी और उसके बाद ही मासिक सेवा का आनंद लेना होगा। लेकिन इसने उन्हें अपने डीवीडी रेंटल को बंद करने से नहीं रोका। उन्होंने कारोबार को आगे बढ़ाया और यहाँ तक ​​कि डिश नेटवर्क के सब्सक्राइबरों के लिए भी खुद का विस्तार किया। अच्छी ग्राहक सेवा और अन्य गुणवत्तापूर्ण कंटेंट के साथ, आखिरकार नेटफ्लिक्स ने मजबूत पकड़ बनाई और जिसे कोई भी नजरअंदाज नहीं कर पाया। ब्लॉकबस्टर के गायब होने से मामला और भी आसान हो गया और परिणामस्वरूप वे बाजार पर एकाधिकार हासिल करने में सफल रहें। नतीजतन, उनके विकास ने ओटीटी उद्योग नामक एक नए मार्केट का रास्ता खोल दिया। जब नेटफ्लिक्स की कहानी पश्चिम से शुरू हुई थी, तब भारतीय बाजार का रुख अलग था। रिलायंस एंटरटेनमेंट द्वारा बिगफ्लिक्स हमारी स्क्रीन पर आने वाला पहला आश्रित भारतीय ओटीटी प्लेटफॉर्म माना जाता है। बिगफ्लिक्स के अलावा, नेक्सजी टीवी जैसे नामों को भी इसी में मिला दिया गया है, क्योंकि मुख्य रूप से यह पहला मोबाइल ऐप था जिसने भारत में लाइव स्ट्रीमिंग और ऑन-डिमांड सेवाएँ शुरू की थीं। इसने जो प्रभाव पैदा किया वह बहुत ही कम था, लेकिन इसने भविष्य के लिए रास्ता बना दिया जहाँ ओटीटी प्लेटफॉर्म दुनिया को जीतने वाले थे। हालांकि, दुनिया को जीतने के लिए, उद्योग को तो छोड़ो, आपको प्रतिस्पर्धा के लिए खड़े होने और उनका सामना करने के लिए अधिक बहादुर होने की आवश्यकता है। तो अगर आप एक ओटीटी प्लेटफॉर्म शुरू करना चाहते हैं, तब आपको किस अन्य मार्केट से निपटने की आवश्यकता होगी? हाँ तो, जवाब है केबल टीवी से और सही अनुमान लगाने के लिए आपके दस अंक मिलते हैं।

ओटीटी प्लेटफॉर्म बनाम केबल टीवी सेवाएँ 

शुरुआती दिनों में, ओटीटी प्लेटफॉर्म और केबल टीवी सेवाओं के बीच की लड़ाई जटिल नहीं थी। ओटीटी प्लेटफार्मों के पास इनके साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए शो या फिल्मों की संख्या अधिक नहीं थी, इसका कारण मुख्य रूप से यह था कि उपग्रह (सैटेलाइट) अधिकारों को हमेशा डिजिटल अधिकारों पर ज्यादा प्राथमिकता दी जाती थी। इसके चलते ओटीटी प्लेटफॉर्म्स डील को सील नहीं कर पाएँ। हालाँकि, वह समय काफी पीछे चला गया है और अब वही ओटीटी प्लेटफॉर्म हैं जो कि टॉप पर आ गए हैं। लेकिन उन्होंने यह मुकाम बनाने के लिए ऐसा क्या किया?

  1. ओटीटी प्लेटफॉर्म की सफलता के पीछे नंबर एक कारण यह था कि आप इसमें चुनाव कर सकते थे कि क्या देखना है और कब देखना है। केबल टीवी सेवाओं के विपरीत, आपको एक निश्चित शिड्यूल का पालन करने और शो या फिल्म के शुरू होने की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं रहती है। आपको रुकावटों से गुजरने और चार घंटे में दो घंटे की लंबी फिल्म देखने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती है।
  2. दूसरे कारण में इसका आसानी से इस्तेमाल करना शामिल है। जब आप अपनी कोई पसंदीदा फिल्म देख रहे हों, तब आपको अपने बॉस का एक महत्वपूर्ण कॉल आ सकता है। उस स्थिति में जब टीवी पर फिल्म चल रही हो तो आप क्या करते हैं? सही में, ऐसा कुछ भी नहीं है जो आप कर सकते हैं, खासकर यदि आपका बॉस कॉल न उठाने पर नाराज़ हो जाए। हालाँकि, दूसरी ओर, यदि आप इसे ओटीटी प्लेटफॉर्म पर देख रहे हैं, तब आप फिल्म को रोक सकते हैं और फिर से चला सकते हैं।
  3. तीसरा कारण इसकी कीमत से संबंधित है और ओटीटी प्लेटफॉर्म किस तरह से किफायती हैं। केबल टीवी सेवाओं के लिए आपको एक सब्सक्रिप्शन मॉडल के अनुसार भुगतान करने की आवश्यकता होती है जिसके लिए विशिष्ट चैनलों के लिए अलग-अलग फीस की भी आवश्यकता हो सकती है। लेकिन ओटीटी प्लेटफॉर्म एक ही सब्सक्रिप्शन प्लान को रेफर करते हैं, कीमत में अंतर केवल गुणवत्ता, स्क्रीन की संख्या और अन्य संबंधित पहलुओं के लिए होता है। इस कारण से, लंबे समय के लिए यह किफायती हो जाता है।
  4. इस फ्रंट पर चौथा और अंतिम कारण कंटेट से संबंधित होता है। हाँ, बिल्कुल सही। आप जिस प्रकार की फिल्में/शो देखते हैं। ओटीटी प्लेटफॉर्म टॉप पर आए इसलिए वे नियमित रूप से अपनी सूची को अपडेट करते हैं और आपको बहुत सारे विकल्प प्रदान करते हैं। प्लेटफॉर्म द्वारा निर्मित कंटेंट के साथ-साथ, अन्य निर्माता भी अपने काम को ओटीटी प्लेटफार्मों को बेचने के लिए तैयार रहते हैं ताकि इसे प्रदर्शित किया जा सके। इन विशेष कारणों के हम शुक्रगुजार हैं कि आज ओटीटी प्लेटफॉर्म टॉप पर हैं और भारतीय उपभोक्ता उनकी सेवाओं का उपयोग करने का आनंद उठा रहे हैं। लेकिन वे किस प्लेटफॉर्म को सबसे ज्यादा पसंद करते हैं? और क्या कोई टॉप पांच है? हाँ, टॉप पांच हैं और वे बाजार में सर्वश्रेष्ठ के रूप में जाने जाते हैं। तब आगे बढ़ें और भारत के सर्वश्रेष्ठ ओटीटी प्लेटफॉर्मों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

भारत के सर्वश्रेष्ठ ओटीटी प्लेटफॉर्म

  1. डिज़्नी + हॉटस्टार

स्टार इंडिया के स्वामित्व वाले हॉटस्टार को पहली बार 2015 में लॉन्च किया गया था। अपने दौड़ के शुरुआती चरणों में, उन्हें नेटफ्लिक्स जैसे प्लेटफार्मों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा और आखिरकार दौड़ से बाहर हो गए। फिर भी, उनके प्राइसिंग मॉडल और उनकी पहुंच ने उन्हें टॉप पर पहुँचने में मदद की और अब यह भारत में सबसे प्रमुख वीडियो स्ट्रीमिंग सेवाओं में से एक है। प्लेटफॉर्म सामूहिक रूप से लगभग 300 मिलियन एक्टिव सब्सक्राइबर का दावा करता है और यहाँ चीजें तब और भी मजेदार हो गईं जब उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और क्रिकेट विश्व कप की लाइव-स्ट्रीमिंग शुरू की। 2019 में, जब वॉल्ट डिज़नी कंपनी ने 21st सेंचुरी फॉक्स का अधिग्रहण किया, तब हॉटस्टार ने बिज़नेस में बदलाव देखा, जिसके कारण होस्टार को 'डिज़्नी + हॉटस्टार' का नाम दिया गया।

डिज़्नी+हॉटस्टार क्यों चुनें?

  1. सस्ती कीमत- डिज़्नी + हॉटस्टार को चुनने के कई कारण हैं, जिनमें मुख्य कारण इसकी कीमत है। हॉटस्टार विशेष योजनाओं, यानी वीआईपी और प्रीमियम के साथ आता है। ये दोनों प्लान क्रमशः ₹399/वर्ष और ₹1,499/वर्ष पर उपलब्ध हैं। फलस्वरूप, प्राइसिंग मॉडल बाध्य होती है कि चीज़ें सही से काम करें और आपको इसे उपयोग करने में एक आरामदायक अनुभव प्राप्त हो, इसमें मदद करता है।
  2. लाइव स्ट्रीमिंग- यदि आप एक खेल प्रेमी हैं, तब तो हॉटस्टार आपको इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल), क्रिकेट विश्व कप, प्रीमियर लीग (पीएल) जैसे सभी प्रमुख टूर्नामेंटों को कवर करने में मदद करेगा। क्रिकेट से लेकर फॉर्मूला ई तक, हॉटस्टार के पास सब कुछ है और निश्चित रूप से आपके अनुभव को बढ़ाने में मदद करेगा। खेलों के अलावा, हॉटस्टार समाचारों को भी कवर करता है और आप सभी भाषाओं के प्रसिद्ध समाचार चैनलों को लाइव स्ट्रीम कर सकते हैं।
  3. सभी भाषाओं के लिए कंटेंट- हॉटस्टार एक स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म नहीं है जो केवल एक विशिष्ट दर्शक वर्ग को पूरा करता है। उनके कंटेंट सभी भाषाओं में चलते हैं और आपको मराठी, कन्नड़, मलयालम, हिंदी, तमिल, तेलुगु आदि भाषाओं में फिल्में और शो देखने को मिलेंगे। इसके लिए हम शुक्रगुजार हैं कि हॉटस्टार वास्तव में सही मायनों में एक बहुत बड़ी ओटीटी है जो आपको वह सब प्रदान करता है जिसकी आपको आवश्यकता है।
  4. हॉटस्टार के साथ फ्री कंटेंट- आप मुफ्त में कुछ फिल्में और शो भी देख सकते हैं। कैटिगरी के आधार पर कुछ फिल्में आती हैं, आप हमेशा उन फिल्मों को चुन सकते हैं जो मुफ़्त हैं और उन्हें एक्सप्लोर करने के लिए आगे बढ़ें। हालाँकि, आपके सामने विज्ञापन आ सकते हैं क्योंकि केवल एक पेड सर्विस ही विज्ञापन-मुक्त होती है।

दूसरे पक्ष को क्यों देखें?

  1. खराब यूजर इंटरफेस- जबकि हॉटस्टार काफी श्रेय का हकदार है, वहीं कुछ क्षेत्र ऐसे भी हैं जहाँ यह निश्चित रूप से सुधार कर सकता है। और उन क्षेत्रों में से एक है इसका यूजर इंटरफेस है। कई ग्राहकों ने इसके यूजर इंटरफेस के बारे में शिकायत की है कि यह कैसे एक साथ उलझा है।
  2. धीमी गति- लाइव स्ट्रीमिंग या अन्य संबंधित श्रेणियों की बात हो, हॉटस्टार के साथ एक और समस्या धीमी गति से संबंधित है। तेज़ इंटरनेट के बावजूद, उपयोगकर्ताओं ने हमेशा इस बारे में बात की है कि कैसे उन्हें शो या फिल्मों के लोड होने के लिए कुछ समय तक इंतजार करना पड़ता है।
  3. स्क्रीन का अभाव- एक सिंगल हॉटस्टार प्रीमियम खाता केवल दो स्क्रीन की ही अनुमति देता है। नतीजतन, एक बार में केवल दो डिवाइस पर ही देख सकते हैं। इस तरह की सीमा होने से यह अच्छा काम नहीं किया है परन्तु कुछ इसे अधिक उपयोगकर्ताओं को प्लेटफॉर्म में प्रवेश करने के लिए प्रोत्साहित करने का एक तरीका भी मानते हैं।
  4. ओरिजिनल्स क्वालिटी की कमी- हॉटस्टार ओरिजिनल्स, शो और फिल्मों का एक सेट होता है जो प्लेटफॉर्म द्वारा निर्मित होते हैं। हालांकि इसने कंटेंट की संख्या बढ़ाने का काम किया है, लेकिन गुणवत्ता के मामले में इसका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। 'हॉटस्टार ओरिजिनल्स' दर्शकों के बीच लोकप्रिय नहीं हैं और निश्चित रूप से अन्य प्लेटफार्म क्या ऑफर कर रहें हैं इसके साथ इसकी तुलना नहीं की जा रही है। 

सब्सक्रिप्शन मॉडल

जैसा कि हमने पहले भी बताया है, हॉटस्टार के दो विशेष सब्सक्रिप्शन मॉडल हैं, यानि कि वीआईपी और प्रीमियम। ये दोनों प्लान अलग-अलग कीमत पर आते हैं और एक को दूसरे के ऊपर चुनने से बहुत फर्क पड़ता है। वीआईपी प्लान- वीआईपी प्लान ₹399/वर्ष की कीमत पर आता है और आपको एचडी गुणवत्ता में कंटेंट स्ट्रीम करने देता है। इसमें मार्वल फिल्में, डिज़्नी फिल्में और बच्चों के लिए कंटेंट शामिल है, जो केवल डब की गई भाषाओं में उपलब्ध हैं। हालाँकि, यह विज्ञापन-मुक्त नहीं है। स्ट्रीमिंग के बारे में बात करें तब, आप केवल एक स्क्रीन पर देख सकते हैं और आपको डिज़्नी + ओरिजिनल्स और अंग्रेजी शो नहीं मिलेंगे। प्रीमियम प्लान- प्रीमियम प्लान ₹ 1,499/वर्ष की कीमत पर आता है और 4K गुणवत्ता वाली स्ट्रीमिंग की अनुमति देता है। डिज़्नी फिल्में, मार्वल फिल्में और बच्चों के लिए कंटेंट अंग्रेजी के साथ-साथ डब की गई भाषाओं में भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा, सर्विस विज्ञापन मुक्त है। वीआईपी के विपरीत, प्रीमियम को एक बार में दो स्क्रीन पर देखा जा सकता है और आप डिज़्नी + ओरिजिनल्स और अंग्रेजी शो भी एक्सेस कर सकते हैं।

  1. अमेज़ॅन प्राइम वीडियो

अमेज़ॅन प्राइम वीडियो को 2006 में संयुक्त राज्य में लॉन्च किया गया था। हालांकि इसे विकसित होने में समय लगा, सेवाओं ने कई मौकों को पकड़ा और विभिन्न बाजारों में प्रवेश करना शुरू कर दिया। गौरतलब है कि वे 2016 में भारतीय मार्केट में प्रवेश किए थे और अब भारतीय कंटेंट का निर्माण करते हैं। प्राइम ने भारत के लिए विभिन्न प्रकार के कंटेंट जैसे फैमिली मैन, मेड इन हेवन, मिर्जापुर, आदि जैसे शो कुछ उदाहरण हैं जिसका निर्माण किया है। इन सभी का शुक्रिया, आज यह विशाल स्ट्रीमिंग देश में दूसरा सबसे अधिक सब्सक्राइब किया जाने वाला ओटीटी प्लेटफॉर्म है और जो बाजार पर अच्छा नियंत्रण भी रखता है।

प्राइम वीडियो क्यों चुनें?

  1. कंटेंट का विशाल लाइब्रेरी- वास्तव में प्राइम को भारत में विकसित होने के लिए बहुत अधिक समय की आवश्यकता नहीं पड़ी। एक बार जब उन्होंने खुद को स्थापित कर लिया, तब वे अपनी लाइब्रेरी को ढेर सारी फिल्मों और शो से भर दिया और जिसे सभी प्रकार के व्यक्तियों ने पसंद भी किया। हॉटस्टार की तरह, प्राइम के पास भी सभी भाषाओं की फिल्मों का एक विशाल संग्रह है, और यह केवल उस तरह की वैरायटी के बारे में ही बात करता है जिसका वे दावा करते हैं।
  2. सस्ती कीमत- प्राइम का मार्केट पर छाने का सबसे प्रमुख कारणों में से एक कारण इसकी कीमत है। प्राइम सब्सक्रिप्शन के लिए, आप या तो 3 महीने के लिए ₹329 या एक साल के लिए ₹999 का भुगतान कर सकते हैं। वे आपकी योजना के आधार पर कंटेट को सीमित नहीं करते हैं और इस तरह आप अंत में हर चीज तक पहुंच प्राप्त कर लेते हैं।
  3. फ्री ट्रायल- प्राइम का एक अन्य प्रमुख फायदा यह है कि वे 30 दिनों का फ्री ट्रायल पीरियड प्रदान करते हैं। हाँ, आपने यह सही सुना। अपना विवरण भरने और योजना चुनने पर, आप कंटेट तक पहुंच जाते हैं और उसका आनंद ले सकते हैं, जो कि पहले महीने के लिए फ्री होता है।
  4. प्राइम ओरिजिनल्स- प्राइम कुछ अच्छे भारतीय प्रतिभाओं को भर्ती करने में कामयाब रहा है और इसके परिणामस्वरूप, आपको गुणवत्तापूर्ण भारतीय कंटेंट का लाभ मिलता रहता है। शो से लेकर फिल्मों तक, प्राइम उस तरह के कंटेंट तैयार करता है जो औसत भारतीय दर्शकों को पसंद आता है।

दूसरे पक्ष को क्यों देखें ?

  1. अनुपलब्ध कंटेंट- आपके क्षेत्र से संबंधित कंटेंट उपलब्ध न होना लोगों के सामने एक बड़ी कमी है। चाहे वह प्राइम हो या नेटफ्लिक्स इस मामले में, अनुपलब्ध कंटेंट एक बड़ी समस्या हो सकती है, और इस प्रकार, लोग वीपीएन सेवा का विकल्प चुनने के लिए मजबूर हो जाएंगे।
  2. लाइव स्ट्रीमिंग का मुद्दा- अमेज़ॅन प्राइम वीडियो न्यूजीलैंड क्रिकेट मैचों के लिए विशेष अधिकार प्राप्त करके भारत में लाइव स्ट्रीमिंग व्यवसाय में प्रवेश किया, जिसमें 2022 की शुरुआत में टीम इंडिया का न्यूजीलैंड दौरा भी शामिल है। लेकिन इसके लिए तारीखों को तय करना अभी बाकी है और यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि प्राइम अन्य लाइव स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के खिलाफ कैसे खड़ा होगा।
  3. कड़ी प्रतिस्पर्धा- जबकि प्राइम वीडियो अच्छी गुणवत्ता वाले कंटेंट का उत्पादन करने में कामयाब रहा है, इसे अपने ओरिजिनल्स के मामले में प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता रखता है। और इस मोर्चे पर, प्राइम का प्रतिस्पर्धा का सामना करना जारी है और यहाँ तक कि नेटफ्लिक्स के मिश्रण के आ जाने पर इसके बैकग्राउंड में भी फीकापन आ गया है।
  4. स्पष्टता की कमी- ओटीटी प्लेटफॉर्म आपको आपकी देखने की आदतों के आधार पर यह चुनने में मदद करते हैं कि आप क्या देखना चाहते हैं। जबकि यह सभी प्रमुख बड़े ओटीटी के लिए समान है, लेकिन यहाँ कुछ मुद्दे सामने आते हैं। प्राइम वीडियो इस मुद्दे का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है क्योंकि हो सकता है कि उनकी सिफारिशें हमेशा वह न हों जो आप देखना चाहते हैं।

सब्सक्रिप्शन मॉडल

प्राइम के लिए सब्सक्रिप्शन मॉडल सरल है और जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है, यहाँ दो प्रमुख विकल्प हैं जिन्हें आप चुन सकते हैं, यानी ₹329 के लिए 3 महीने की सदस्यता और ₹999 के लिए एक साल की सदस्यता। इसके अलावा, एक विशेष प्राइम अकाउंट के साथ, आप निम्नलिखित लाभों के हकदार भी होते हैं। प्राइम म्यूजिक पर एड-फ्री म्यूजिक आसानी से उपलब्ध हैं। अमेज़ॅन स्टोर पर फ्री और फास्ट डिलीवरी का विकल्प। प्राइम रीडिंग पर बहुत सारी ई-बुक्स और कॉमिक्स उपलब्ध हैं। प्राइम वीडियो पर फिल्मों और टीवी शो के अलावा, आप प्राइम के साथ गेमिंग पर मुफ्त इन-गेम कंटेंट तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं।

  1. नेटफ्लिक्स

नेटफ्लिक्स और चिल साल में ज्यादातर हमारी टैगलाइन रही है क्योंकि इस स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म पर हम एक टन फिल्मों और शो को आजमाते हैं। भारत में इसे 2016 में लॉन्च किया गया, नेटफ्लिक्स को बिंज वॉचिंग के दौर का जिसने बाजार पर कब्जा किया हुआ है उसके ऑरिजनल निर्माता के रूप में जाना जाता है। पीकी ब्लाइंडर्स से लेकर सेक्रेड गेम्स तक, उनके ओरिजिनल्स बहुत हिट रहे हैं, और हर बार जब भी वे एक नई सीरिज लॉन्च करते हैं, तब वह इंटरनेट पर चर्चा का विषय बन जाता है। इसी कारण, यह विशाल स्ट्रीमिंग हमारी सूची में तीसरे स्थान पर है और यह अपने ग्राहकों को वह सब प्राप्त करने में मदद करता है जो वे चाहते हैं। हालाँकि वे कुछ पहलुओं के मामले में ऊँचे उठे हैं, लेकिन उनमें विशिष्टताओं की कमी भी हैं जो कि भारतीय बाजार की मांग को पूरा करते हैं। तब ये पहलू क्या हैं? खैर, चलिए आगे बढ़ते हैं और पता लगाते हैं।

नेटफ्लिक्स क्यों चुनें?

  1. गुणवत्ता वाले कंटेंट- गुणवत्ता के मामले में नेटफ्लिक्स कभी भी दौड़ में नहीं हारता है और यह इस पहलू पर हमेशा सिर ऊँचा कर रहता है। उनके द्वारा बनाया गया प्रत्येक शो यूनिक होता है और तुरंत बाजार में अपना प्रभाव भी छोड़ता है। नेटफ्लिक्स ओरिजिनल के अलावा, दर्शक कई अंतरराष्ट्रीय शो से भी प्रभावित होते हैं जो उनकी पहुंच को और बढ़ाते हैं। चूंकि उनकी कुछ विशेष फिल्मों और शो ने ऑस्कर सहित बड़े पुरस्कार भी जीते हैं, इसलिए नेटफ्लिक्स के लिए गुणवत्ता सबसे ऊपर है।
  2. आरामदायक उपयोगकर्ता अनुभव- नेटफ्लिक्स एक आरामदायक उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करता है जो किसी अन्य प्लेटफॉर्म पर खोजना मुश्किल है। उनकी रेकमेन्डेशन (सिफारिशें) बहुत सही होते हैं और आप हमेशा वही पा सकते हैं जो आप चाहते हैं। इसके अलावा, नेटफ्लिक्स एक साधारण रिमाइंडर भी प्रदान करता है जिसमें पूछा जाता है कि क्या आप शो देख रहे हैं यदि घंटों से कोई गतिविधि नहीं हुई है। इसलिए यदि आप सो जाते हैं, तब नेटफ्लिक्स ने आपको कवर कर दिया है क्योंकि जब रिमाइंडर का उत्तर नहीं आता है, तब यह स्वतः ही शो को समाप्त कर देता है।
  3. चार स्क्रीन तक का ऑफर- हाँ, आपने सही सुना। बड़ा सब्सक्रिप्शन प्लान चुनने पर, नेटफ्लिक्स आपको चार अलग-अलग डिवाइस पर कंटेंट स्ट्रीम करने देता है। ऐसी कोई अन्य सेवा खोजना कठिन है जो आपको इस प्रकार की पहुँच प्रदान करती हो और जो निश्चित रूप से आपको उनके बिजनेस के बारे में अधिक बताए।
  4. अलग-अलग प्लान- नेटफ्लिक्स के साथ, आपको विभिन्न प्रकार की योजनाओं के बीच चुनाव करने को मिलता है और इनमें से कोई भी योजना उस तरह के कंटेंट को सीमित नहीं करती है जिसे आप देख सकते हैं। हालाँकि, ये योजनाएँ अलग-अलग स्ट्रीमिंग गुणवत्ता के साथ आती हैं और यह एक यूनिक फैक्टर होता है जिसे आपको एक विशिष्ट योजना चुनने से पहले देखने की आवश्यकता पड़ती है।

दूसरी तरफ क्यों देखें

  1. महँगा- हालाँकि नेटफ्लिक्स को उच्च गुणवत्ता के लिए जाना जाता है, लेकिन यह एक कीमत पर आता है और यह कीमत काफी महंगी है। अन्य बड़े स्ट्रीमिंग की पेशकश की तुलना में उनकी अधिकांश सदस्यता योजनाएं महंगी हैं। इसी कारण, कीमत एक ऐसा पहलू है जिस पर आपको गौर करने की आवश्यकता है।
  2. कंटेंट स्थान पर निर्भर है- नेटफ्लिक्स की प्रमुख कमियों में से एक इस बात को रेफर करता है कि इसके कंटेंट हमेशा लोकेशंस पर निर्भर होते हैं। कॉपीराइट दावों और अन्य संबंधित पहलुओं के कारण,  नेटफ्लिक्स यूएस भारत में क्या प्रदान करता है आप यह देख नहीं पाते हैं। 
  3. क्षेत्रीय कंटेंट के लिए कम विकल्प- क्षेत्रीय सिनेमा या क्षेत्रीय कंटेंट नेटफ्लिक्स पर कम रैंक करती है। हालाँकि उनके पास कुछ विकल्प हैं, लेकिन यह प्राइम वीडियो या हॉटस्टार जैसी विशाल लाइब्रेरी का दावा नहीं करता है। नतीजतन, यदि आप क्षेत्रीय सिनेमा के लिए अधिक ऑप्शन चाहते हैं, तब नेटफ्लिक्स आपके लिए सही विकल्प नहीं हो सकता है।
  4. डेटा खपत- नेटफ्लिक्स के बारे में एक और बड़ी कमी इसकी भारी डेटा खपत है। जबकि आपको अन्य ओटीटी प्लेटफॉर्म पर पिक्चर क्वालिटी चुनने का विकल्प मिलता है, लेकिन आपको नेटफ्लिक्स के साथ ऐसा विकल्प नहीं मिलता है। यह स्वचालित रूप से आपके इंटरनेट के आधार पर सर्वोत्तम गुणवत्ता चुनता है। इसलिए यदि आप स्ट्रीमिंग के दौरान कुछ डेटा बचाना चाहते हैं, तब नेटफ्लिक्स आपकी मदद नहीं कर पाएगा।

सब्सक्रिप्शन मॉडल

नेटफ्लिक्स का महँगा सब्सक्रिप्शन मॉडल विभिन्न प्रकार की योजनाओं के साथ आता है। और सब्सक्रिप्शन की अवधि आपके द्वारा चुनी गई योजना पर आधारित होती है। मोबाइल प्लान - इस प्लान की कीमत ₹199 प्रति माह है और यह एसडी रिज़ॉल्यूशन के साथ आता है। जैसा कि नाम से पता चलता है, यह केवल आपके मोबाइल के लिए है और इसे केवल एक डिवाइस पर स्ट्रीम किया जा सकता है। बेसिक प्लान - बेसिक प्लान ₹499 प्रति माह की लागत पर आती है और आपको एक समय में एक डिवाइस से कंटेंट स्ट्रीम करने देती है। इस के लिए उपलब्ध रिज़ॉल्यूशन 480P  है। स्टैंडर्ड प्लान- ₹649 प्रति माह वह मूल्य है जिस पर स्टैंडर्ड प्लान तय की जाती है। इस विशेष योजना के साथ, आप एक ही समय में दो डिवाइसों पर एचडी रिज़ॉल्यूशन में देख सकते हैं। प्रीमियम प्लान - सबसे महंगा सब्सक्रिप्शन प्लान, जिसे 'प्रीमियम' के नाम से जाना जाता है, प्रति माह ₹799 की कीमत पर आता है। यह आपको अल्ट्रा एचडी और एचडीआर के रिज़ॉल्यूशन के साथ एक ही समय में चार से अधिक उपकरणों पर कंटेंट स्ट्रीम करने देता है।

  1. सोनीलिव 

सोनीलिव 'स्कैम 1992'  के जैसा ही मशहूर है। हंसल मेहता के जीवन को कवर करने वाली हिट सीरिज़ एक बड़ी हिट थी और इसी सीरिज़ ने सोनीलिव को मार्केट में आने में मदद की। 700 से अधिक फिल्मों और टीवी शो के साथ, सोनीलिव एक अन्य विशाल कंपनी है जिसके बारे में आपको जानना जरूरी है। इसे सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा लॉन्च किया गया था और हाल के दिनों में यह कारण सफल रहा है। हालाँकि एंटरटेनमेंट हमेशा ही इनके लिस्ट का हिस्सा रहा है, परन्तु वे आमतौर पर स्पोर्ट्स एंटरटेनमेंट के लिए जाने जाते हैं क्योंकि वे कई प्रमुख टूर्नामेंटों को कवर करते हैं।

सोनीलिव क्यों चुनें?

  1. लाइव स्पोर्ट्स इवेंट्स- सोनीलिव के साथ क्रिकेट, फ़ुटबॉल और यहाँ तक ​​कि डब्ल्यू डब्ल्यू ई (WWE) भी देखे जा सकते हैं। वे एक प्रमुख लाइव-स्ट्रीमिंग की दिग्गज कंपनी हैं जो आपको आवश्यक सभी खेल कवरेज प्राप्त करने में मदद करते हैं। चूँकि इनमें से अधिकांश अंतर्राष्ट्रीय इवेंट्स, दूसरी जगह उपलब्ध नहीं भी हो सकते हैं, लेकिन सोनीलिव इन सभी के लिए एक सुरक्षित सब्सक्रिप्शन है।
  2. सस्ती कीमत- सोनीलिव का प्राइसिंग मॉडल नेटफ्लिक्स से कोसों दूर है क्योंकि वे सभी के लिए किफायती विकल्प ऑफर करते हैं। चूंकि उनकी योजनाएं (प्लान), आप जिस प्रकार के कंटेंट देखते हैं उस के लिए स्पेसिफिक होते हैं, आप हमेशा किफायती विकल्पों के साथ काम कर सकते हैं।
  3. टीवी शो- सोनीलिव सब्सक्रिप्शन का एक और बड़ा फायदा यह है कि आपको इसके साथ ही टीवी शो भी देखने को मिलते हैं। चूंकि यह विकल्प लचीला (फ्लेक्सिबल) है, आप वेबसाइट पर फिर से जा सकते हैं और इसे किसी भी समय देख सकते हैं।
  4. अधिक कंटेंट का समावेश- हाल ही में 'स्कैम 1992' की सफलता ने सोनीलिव को कंटेंट मार्केट तक पहुँचने में मदद की है, जो कि उसे स्पोर्ट्स एंटरटेनमेंट से बाहर भी स्थान देता है। इसी कारण, ओटीटी प्लेटफॉर्म और बेहतरी के लिए अधिक शो के साथ आने और आपके दिलों को चुरा लेने के लिए बाध्य है।

दूसरे पक्ष को क्यों देखें?

  1. गुणवत्ता वाले कंटेंट की कमी- "स्कैम 1992" एकमात्र ऐसा शो हो सकता है जिसे आपने सोनीलिव पर देखा होगा। जबकि इससे इस प्लेटफॉर्म को काफी फायदा मिला था, यह उनके द्वारा बनाए गए कंटेंट के प्रकार के बारे में भी बात करता है। लेकिन इस एक विशेष शो के अलावा, सोनीलिव के पास ज्यादा बोलने के लिए और बहुत कुछ नहीं है।
  2. लीमिटेड (सीमित) स्क्रीन- हॉटस्टार की तरह, सोनीलिव भी सोनीलिव स्क्रीन ऑफर करता है और कई बार स्क्रीन की सीमा को कम कर एक कर देता है। आपके द्वारा चुनी गई योजना के आधार पर, आप इस पॉलिसी में परिवर्तन देख सकते हैं, लेकिन आपको यहाँ सबसे अधिक दो स्क्रीन मिलते हैं। इसलिए, सीमित स्क्रीन एक समस्या है जिसे आपको झेलना पड़ेगा।
  3. बिंज वॉचिंग अभियान का हिस्सा नहीं होना- हम सभी इस बारे में बात करते हैं कि हमने नेटफ्लिक्स या प्राइम पर सप्ताह के अंत में पूरे शो को कैसे देखा। लेकिन हम सोनीलिव पर शायद ही इस बारे में बात करते हैं। और यह आपको उनके द्वारा बनाए गए कंटेंट के बारे में बहुत कुछ बता देता है। फलस्वरूप, उनके शो, एक को छोड़कर, हमेशा बातचीत का हिस्सा नहीं होते हैं और निश्चित रूप से बिंज वॉचिंग अभियान का हिस्सा नहीं होते हैं।
  4. उनके द्वारा उत्पादित कंटेंट विविधतापूर्ण नहीं होते हैं- आप बहुत आराम से कह सकते हैं कि यह विविध नहीं है। वे किसी विशेष उद्योग या भाषा पर ही अपना ध्यान केंद्रित करते हैं और अन्य भाषाओं के संदर्भ में उनके पास देने के लिए बहुत कुछ नहीं होता है।

सब्सक्रिप्शन मॉडल

सोनीलिव के मुख्य रूप से दो अलग-अलग सब्सक्रिप्शन मॉडल हैं जो बदले में उस तरह के कटेंट के बारे में बात करते हैं जो आपको देखने को मिलती है। प्रीमियम- प्रीमियम योजना या प्लान अलग-अलग कीमतों पर आती है, मतलब ₹299 प्रति माह, ₹699 छह महीने के लिए, और ₹999 प्रति वर्ष। इस प्लान के साथ, आपको लाइव इवेंट (WWE और स्पोर्ट्स), अंतर्राष्ट्रीय शो आदि देखने को मिलते हैं। इसमें टॉप के भारतीय फिल्में, केबीसी, बच्चों के लिए कंटेंट और ऑफ़लाइन डाउनलोड का विकल्प भी शामिल होता है। इस प्लान से आप ज्यादा से ज्यादा 5 प्रोफाइल बना सकते हैं लेकिन एक ही समय में केवल दो स्क्रीन ही चलाई जा सकती हैं। डब्ल्यूडब्ल्यूई पैक- एक्सक्लूसिव डब्ल्यूडब्ल्यूई पैक एक साल के लिए 299 रुपये की कीमत पर आता है। यह सभी लाइव डब्ल्यूडब्ल्यूई के मेन इवेंट्स को कवर करता है और डब्ल्यूडब्ल्यूई लाइब्रेरी तक अनलिमिटेड एक्सेस प्रदान करता है। इस प्लान से भी अधिकतम 5 प्रोफाइल बनाई जा सकती हैं, लेकिन एक बार में केवल एक ही स्क्रीन चलाई जा सकती है। इसके अलावा, यदि आप अन्य कंटेंट तक पहुंच प्राप्त करना चाहते हैं, तब आपको प्रीमियम की सदस्यता लेनी होगी।

अन्य महत्वपूर्ण ओटीटी प्लेटफॉर्म

भारत में ओटीटी सर्विस एक बहुत बड़ा मार्केट है और इस कारण से ऐसे बहुत बेहतर प्लेटफॉर्म हैं जिनके बारे में भी बताया जाना चाहिए। हालांकि वे बाकियों की तरह उच्च-गुणवत्ता वाले कंटेंट का दावा नहीं करते हैं, फिर भी उनके पास वह है जो अंत में उन्हें टॉप पर पहुंचा सकते हैं।

ज़ी 5

ज़ी एंटरटेनमेंट ने 2013 में डिट्टो टीवी के लॉन्च के साथ ओटीटी उद्योग में प्रवेश किया था। हालाँकि, इसका विघटन हो गया और बाद में यह आया और ज़ी5 के रूप में जाना जाने लगा। आज, इस प्लेटफॉर्म पर एक हजार से अधिक फिल्में और कई लाइव टीवी चैनल हैं, जिन्हें एक साधारण सब्सक्रिप्शन प्लान के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। प्रीमियम एक ऐसा प्रीमियम प्लान है जो एक मेन सब्सक्रिप्शन मॉडल है जिसके माध्यम से ज़ी5 संचालित होता है। यह एक बारह महीने के प्लान और एक तीन महीने के प्लान के साथ आता है। जहाँ एक साल के लिए इसकी कीमत 999 रुपये है, वहीं तीन महीने के प्लान की कीमत 299 रुपये है। इन दोनों योजनाओं के साथ आपको जिस प्रकार की कंटेंट प्राप्त होती है वह समान है लेकिन 3 महीने की योजना आपको एक बार में सिर्फ दो स्क्रीन तक सीमित कर देती है। फ्रेंड्स रीयूनियन से लेकर कई ब्लॉकबस्टर शो तक, ज़ी5 के पास आपको देने के लिए बहुत कुछ है।

वूट

वूट एक अन्य भारतीय सब्सक्रिप्शन वीडियो-ऑन-डिमांड सर्विस है जिसे 2016 में लॉन्च किया गया था। इसका मालिकाना अधिकार वायाकॉम 18 के पास है और इसमें लगभग 40,000 घंटे के कंटेंट शामिल है। टॉप फिल्मों के अलावा, यह प्लेटफॉर्म निकलोडियन, कलर्स और एमटीवी जैसे टीवी चैनलों के कंटेंट भी शामिल किए हुए है। अन्य स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म की तरह, वूट भी स्ट्रीमिंग के लिए ऑरिजनल शो को शामिल करता है जो कि तेजी से लोकप्रिय हो रहे हैं। वूट सेलेक्ट, वूट की पेड सब्सक्रिप्शन सेवाएं वूट सेलेक्ट से शुरू होती हैं। यह ₹99 प्रति माह (3-दिन के फ्री ट्रायल) और ₹499 प्रति वर्ष (14-दिन के फ्री ट्रायल) पर आता है। केवल पेड सब्सक्राइबर ही वूट द्वारा निर्मित ऑरिजनल शो को एक्सेस कर सकते हैं। इसके अलावा, टीवी पर प्रकाशित विशिष्ट शो टीवी पर उनके वास्तविक प्रीमियर से एक दिन पहले स्ट्रीम किए जाते हैं।

एमएक्स प्लेयर

एमएक्स प्लेयर मार्केट की स्थिति अनुसार तालमेल बैठाने के लिए सभी सही कदम उठा रहा है और इस लिए यह एक ऐसा ओटीटी प्लेटफॉर्म है जो कि विचार करने लायक है। हालांकि इसकी लाइब्रेरी 'स्कैम 1992' या 'पीकी ब्लाइंडर्स' से भरी नहीं है, लेकिन यह कई भाषाओं में प्रभावशाली 150,000 घंटे के कंटेंट को कवर करती है। इसके अलावा, एमएक्स प्लेयर की ऑनलाइन सुविधा मुफ्त है और सभी के लिए खुली है। इसलिए आप कभी भी एमएक्स प्लेयर पर शो और फिल्में देखने का विकल्प चुन सकते हैं, केवल आपको बीच- बीच में विज्ञापनों को भी देखना पड़ेगा।

ओटीटी का इस्तेमाल करते समय ध्यान देने योग्य बातें

  1. जबकि ओटीटी प्लेटफॉर्म आपको बहुत सारे कंटेंट प्रदान करते हैं, लेकिन फिर भी कुछ मामले में यह नकारात्मक भी हैं। आपको बिंज वॉचिंग (उनके शो को लगातार एक के बाद एक देखने) के लिए आकर्षित करता है, जिसके कारण आप एक स्क्रीन के सामने घंटों बिताते हैं, जो कि हानिकारक है। यह बिल्कुल ठीक नहीं है और स्वास्थ्य विशेषज्ञों का भी यहीं मानना है। इसलिए इसे कम करना ही इसके साथ जाने का सही तरीका होगा।
  2. 2. सेंसरशिप का अभाव होना दोनों ही, अच्छी बात भी है और बुरी भी । यद्यपि यह आपको कंटेंट को सही तरीके से देखने में मदद करता है, लेकिन बच्चे भी उस तक आसानी से पहुँच प्राप्त कर सकते हैं। फलस्वरूप, एक उचित रूप से माता-पिता के नियंत्रण का पालन करने की आवश्यकता होती है और आपको यह सुनिश्चित करना भी चाहिए कि सब कुछ आपके प्लान के अनुसार हो।
  3. 3. क्या देखना है इसका चुनाव करना भी एक और समस्या है क्योंकि यह अनेक विकल्पों के साथ मौजूद है। आपको बहुतों में से एक को चुनना मुश्किल हो जाएँगा और आप भ्रमित हो जाएँगे कि क्या करना है। इसी कारण, आपके पास एक ऐसा शेड्यूल होना चाहिए जो न केवल आपके देखने के समय को सीमित करे बल्कि आपको सही तरीके से शो और फिल्में चुनने में भी मदद करें।
  4. 4. इंटरनेट की खपत भी एक और समस्या हो सकती है जिसका आपको सामना करना पड़ता है। यदि आप हाई रिज़ॉल्यूशन पर गुणवत्ता वाले कंटेंट देखना चाहते हैं, तब आपको एक अच्छे इंटरनेट के साथ तैयार रहने की आवश्यकता होती है जो आपको वह हर चीज़ प्रदान करे जिसकी आपको सबसे अधिक आवश्यकता है।

निष्कर्ष: आपके लिए सही ओटीटी प्लेटफॉर्म का विकल्प

इतने कम समय में ओटीटी प्लेटफॉर्मों ने जो कुछ हासिल किया है, इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि भविष्य में और भी बहुत कुछ देखने को मिलना बाकी है। एक समय हम टीवी पर चैनलों के माध्यम से फिल्में देखते थे, लेकिन अब हम वही ओटीटी प्लेटफॉर्म के माध्यम से कर रहे हैं। फलस्वरूप, भविष्य में यह आदतें और भी बढ़ने और जारी रहने के लिए बाध्य है। इसी कारण से, एक विशिष्ट प्लेटफॉर्म चुनना और प्रक्रिया का हिस्सा बनना काफी महत्वपूर्ण है। लेकिन फिर बात यह होती है कि आप किसे चुनते हैं? सही प्लेटफॉर्म को चुनने के लिए आपको उनकी तुलना करना और यह समझना होता है कि आप क्या चाहते हैं। इसलिए, यदि आप हाई रिज़ॉल्यूशन पर अंतर्राष्ट्रीय शो और फिल्में और उच्च गुणवत्ता वाले कंटेंट देखना चाहते हैं, तब नेटफ्लिक्स आपके लिए बिल्कुल सही विकल्प होता है। हालांकि, इसके लिए आपको पैसे देने के लिए भी तैयार रहना होगा। यदि आप लाइव स्पोर्ट्स इवेंट, एचबीओ शो और फिल्में, मार्वल फिल्में और रीजनल कंटेंट देखना चाहते हैं, तब हॉटस्टार आपके लिए सही विकल्प होगा। हालाँकि, आपको स्क्रीन के सीमित विकल्पों के बारे में भी पता होना चाहिए। यदि आप टॉप अंतरराष्ट्रीय शो और फिल्में, स्पोर्ट्स डॉक्युमेंट्री और रीजनल कंटेंट भी देखना चाहते हैं, तब प्राइम वीडियो आपके लिए सही विकल्प होगा। परन्तु, आपको लाइव स्पोर्ट्स इवेंट्स के मज़े को छोड़ना होगा। इसलिए, चुनाव आपको करना है और एक सही निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए आपको इन बातों को अच्छी तरह से समझना या परखना होगा।

ओटीटी प्लेटफॉर्म पैसे कैसे कमाते हैं?

ओटीटी प्लेटफॉर्मों के लिए आय का मुख्य स्रोत इसकी सब्सक्रिप्शन-आधारित सर्विसेज हैं। इनकी आय मुख्यतः इन्हीं सेवाओं के माध्यम से होती है। हालाँकि, मुफ्त में कंटेंट ऑफर करने वाले प्लेटफॉर्मों के पास आय का यह स्रोत नहीं होता है, इसके बजाय वे आय के लिए विज्ञापनों पर निर्भर रहते हैं। चूंकि डिजिटल अधिकार खरीदने के लिए एक बड़े बजट की आवश्यकता होती है, इसलिए ओटीटी प्लेटफॉर्म लागत को कम करने के लिए अपने कंटेंट को प्रोड्यूस करने की ओर कदम बढ़ा रहे हैं।

क्या ओटीटी प्लेटफॉर्म रेगुलेटेड (विनियमित) हैं?

बहुत लंबे समय तक, ओटीटी प्लेटफॉर्म किसी भी प्रकार के रेगुलेशन के अंतर्गत नहीं था। लेकिन हाल के दिनों में, सरकार ने इन प्लेटफार्मों को सूचना और प्रसारण मंत्रालय (I&B) के तहत शामिल किया है। ऐसा होने से इन प्लेटफॉर्मों को थ्री-टियर रेगुलेशन से गुजरना होता है। टियर-वन और टियर-टू में प्लेटफॉर्म और इसकी सेल्फ रेगुलेटरी संस्था शामिल होती है, जबकि टियर-थ्री में सूचना और प्रसारण मंत्रालय शामिल होता है।

सबसे किफायती ओटीटी प्लेटफॉर्म कौन सा है?

यू ट्यूब, हर तरह से, एक ऐसा ओटीटी प्लेटफॉर्म है जो एक टन से भी ज्यादा कंटेंट शामिल किए हुए है। लेकिन यह सशुल्क (पेड) सब्सक्रिप्शन प्रदान नहीं करता है और इसी कारण से यह विज्ञापनों के साथ आता है। हालाँकि, ज़ी 5 पेड सब्सक्रिप्शन प्रदान करता है लेकिन उनके प्लान (योजनाएँ) बहुत सस्ते होते हैं। इसी कारण से, ज़ी5 सबसे किफायती ओटीटी प्लेटफॉर्म है।

क्या हम ओटीटी प्लेटफॉर्म पर लाइव स्पोर्ट्स देख सकते हैं?

लाइव स्पोर्ट्स और लाइव टूर्नामेंट ओटीटी प्लेटफॉर्म के अंतर्गत ही आते हैं और आपके पास डिज़्नी + हॉटस्टार और सोनीलिव जैसी विभिन्न सर्विसेज हैं जो आपको यह सब ऑफर करते हैं। हालाँकि, आप जिस प्रकार का टूर्नामेंट या खेल देखना चाहते हैं, वह एक प्लेटफॉर्म से दूसरे प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग हो सकते हैं।

Author

Aishwarya Dutta


Find Upcoming Sales in India

The only upcoming sales tracker you need. Period.

  • Flipkart Upcoming Sale
  • Amazon Upcoming Sale
  • Myntra Upcoming Sale